श्री माधव राव माण्डोले “दिनेश”

 

☆ जीवनदायी – जीवनदायिनी ☆ 

 

सुनो ऐ-हिन्दुस्तानियों,

पूरा जोर लगा के कहता हूँ,

शास्त्रों का हवाला देता हूँ।

 

वो …….?

नही रुकेगा पास तुम्हारे,

जिसका न करोगे तुम सम्मान,

जरूरत पड़ने पर भी।

 

वो ……..?

न होगा साथ तुम्हारे,

जानो महत्व उसका।

 

वो…….?

है पारदर्शी जीवन दायी,

अब भी न संभले भाई,

समझो मृत्यु तुम्हें है आई।

 

वो…….?

दिखता,

कल-कल कर चलता,

अब, कम गिरता,

जीवन उसके लिए है तरसता।

रोक सको तो रोक लो,

संभव है जितना

कम से कम

उतना ही भर लो।

 

न समझे अब भी,

न फिर संभलोगे कभी,

सुन लो ऐ हिन्दुस्तानी

छोटी सी पानी की है यह कहानी……..

न संभले तो न रहेगी तुम्हारी निशानी…….

 

© माधव राव माण्डोले “दिनेश”, भोपाल 

(श्री माधव राव माण्डोले “दिनेश”, दि न्यू इंडिया एश्योरंस कंपनी, भोपाल में सहायक प्रबन्धक हैं।)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *