English Literature – Poetry ☆ – Enlightment… – ☆ Captain Pravin Raghuvanshi, NM ☆

Captain Pravin Raghuvanshi, NM

(Captain Pravin Raghuvanshi—an ex Naval Officer, possesses a multifaceted personality. He served as Senior Advisor in prestigious Supercomputer organisation C-DAC, Pune. An alumnus of IIM Ahmedabad was involved in various Artificial Intelligence and High-Performance Computing projects of national and international repute. He has got a long experience in the field of ‘Natural Language Processing’, especially, in the domain of Machine Translation. He has taken the mantle of translating the timeless beauties of Indian literature upon himself so that it reaches across the globe. He has also undertaken translation work for Shri Narendra Modi, the Hon’ble Prime Minister of India, which was highly appreciated by him. He is also a member of ‘Bombay Film Writer Association’.)

We present his awesome poem ~ Enlightment… ~We extend our heartiest thanks to the learned author Captain Pravin Raghuvanshi Ji, who is very well conversant with Hindi, Sanskrit, English and Urdu languages for sharing this classic poem.  

☆ Enlightment ?

When enlightment dawned,

sorrow  became  the  succour

Source of love became genesis

of  benevolence  in  the  heart…

 *

Gradually the ritual became 

less excruciatingly painful

Slowly-slowly  the  song  of

the heart became the pacifier

 *

Now whichever way we go,

I keep finding a greater joy

Thorns became flowers and

flowers became the gardens…

 *

Sorrow kept on decreasing

with  the  passage  of  time,

The word that did not exist

became  a  renowned story…

 

~ Pravin Raghuvanshi

© Captain Pravin Raghuvanshi, NM

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry ☆ In search of… ☆ Hemant बावनकर ☆

Hemant Bawankar

☆ In search of… ☆ Hemant Bawankar ☆

Light of life is gone

now

we are alone

 

In sunny days

and moonlit nights.

In shadows of death

and beam of lights.

 

We all insects

shifting curiously

on different rays of the beam.

 

Not for

entire shining of life;

smile and sorrow;

love and hate;

affection and sex;

money and respect.

But,

for mental peace.

Not for;

but,

only for … peace

of clothed mentality

and nude soul.

 

And that

We will get

in jaws of death!

 

Who says;

we are searching life.

None is in search of life.

 

All are wandering

to escape from death.

All are overtaking

the smile of life.

 

But,

we are hearing

sorrowful moans of soul

coming from

the depth of heart.

 

And moaning soul

also wants peace

…. mental peace

… internal peace

… eternal peace.

 

Thus,

we all are wandering

in search of peace

in search of … grave!

29th July 1977

(This poem has been cited from my book The Variegated Life of Emotional Hearts”.)

© Hemant Bawankar

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry ☆ – Endless Quest… ~ प्रश्न एक – खोज अनंत… (भावानुवाद) ☆ Captain Pravin Raghuvanshi, NM ☆

Captain Pravin Raghuvanshi, NM

(Captain Pravin Raghuvanshi—an ex Naval Officer, possesses a multifaceted personality. He served as Senior Advisor in prestigious Supercomputer organisation C-DAC, Pune. An alumnus of IIM Ahmedabad was involved in various Artificial Intelligence and High-Performance Computing projects of national and international repute. He has got a long experience in the field of ‘Natural Language Processing’, especially, in the domain of Machine Translation. He has taken the mantle of translating the timeless beauties of Indian literature upon himself so that it reaches across the globe. He has also undertaken translation work for Shri Narendra Modi, the Hon’ble Prime Minister of India, which was highly appreciated by him. He is also a member of ‘Bombay Film Writer Association’.)

We present his awesome poem ~ Endless Quest… ~ and Hindi version प्रश्न एक – खोज अनंत… We extend our heartiest thanks to the learned author Captain Pravin Raghuvanshi Ji, who is very well conversant with Hindi, Sanskrit, English and Urdu languages for sharing this classic poem.  

☆ Endless Quest… ?

Meaning of the life

Battle for the survival

What is its explanation

What is the complementarity

that is continuously on

The state of ‘no-answer’

probably is the only answer…

 

Escape from the truth

Dogmas of the destiny

Longing for the destination

Encounter with the fate and the

accounts of ‘Fruits of Karma’…

 

Desire for immortality,

deathlessness or eternity in

the cycle of birth and death or

the merger with the absolute

The infiniteness of the universe

Unanswered haunting queries

Finally, remains the same

enigmatic answer:

the eternal peace…!

~ Pravin Raghuvanshi

 ~~~~~~

☆ प्रश्न एक – खोज अनंत… ?

जीवन की सार्थकता

अस्तित्व का महासंग्राम

क्या है स्पष्टीकरण

क्या है पूरकता

पर निरंतर है निरुत्तरता ही निरुत्तरता..

 

सत्य से पलायन

प्रारब्ध के नियम

गंतव्य की निकटता

नियति से अप्रत्याशित भेंट

कर्मफलों का लेखा-जोखा

अजरता, अमरता व अमृत्व की चाह

 

जन्म-मृत्यु चक्र का फेर

या सम्पूर्णता में विलिनता

ब्रह्मांड की अनंतता

अनुत्तरित प्रश्न

फिर वही चिरशांति..!

~ प्रवीण रघुवंशी 

 

~ Pravin Raghuvanshi

© Captain Pravin Raghuvanshi, NM

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares

English Literature – Poetry – Words ….and Poetry – Hemant Bawankar

Hemant Bawankar

☆ Words ….and Poetry ☆ Hemant Bawankar ☆

My words

never sleep.

When you are sleeping

then

and

even when I sleep

then too.

 

These words are

my existence

my identity.

 

When the world sleeps

in their own sleep,

then these words

awake me

and

make me feel that

some words are innocent

unknown to each other

I try to associate them

in my vocabulary

in my brain

and

try to tell them –

It is only their identity.

These words

sometimes

correlate with each other

and

sometimes

slip from the hand

slip from the heart

and

slip away

far away …

to the other bank of the lake

to the other bank of the river

far away

on mountains

on forts built on mountains

on ocean   

on another shore of the ocean

climbing on

an imagination of my heart.

 

The words

are independent.

None can

bind them,

one’s brain even

and

even boundaries of

the nations too.

 

Whenever,

I feel lonely

alone

in silence,

these words

try to tell me

songs of lakes

and

songs of springs.

 

Breeze over

green fields

and

green meadows.

 

Fearful stories

of hills

dark forests

and

history buried

in and under

the historical forts.

 

These words have

their own identity

in my heart

in my vocabulary.

 

My all words are

superb

extremely superb

to me.

 

Sometimes,

I get

some insensitive words

in the journey of life

they disturb me.

I had to keep them away

then only

I could create such poetry

from the remaining words.

(This poem has been cited from my book The Variegated Life of Emotional Hearts”.)

© Hemant Bawankar

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry ☆ – Atonement… – ☆ Captain Pravin Raghuvanshi, NM ☆

Captain Pravin Raghuvanshi, NM

(Captain Pravin Raghuvanshi—an ex Naval Officer, possesses a multifaceted personality. He served as Senior Advisor in prestigious Supercomputer organisation C-DAC, Pune. An alumnus of IIM Ahmedabad was involved in various Artificial Intelligence and High-Performance Computing projects of national and international repute. He has got a long experience in the field of ‘Natural Language Processing’, especially, in the domain of Machine Translation. He has taken the mantle of translating the timeless beauties of Indian literature upon himself so that it reaches across the globe. He has also undertaken translation work for Shri Narendra Modi, the Hon’ble Prime Minister of India, which was highly appreciated by him. He is also a member of ‘Bombay Film Writer Association’.)

We present his awesome poem ~ Atonement… ~We extend our heartiest thanks to the learned author Captain Pravin Raghuvanshi Ji, who is very well conversant with Hindi, Sanskrit, English and Urdu languages for sharing this classic poem.  

☆ Atonement… ?

Knoweth not why the gusty wind was not repentant

When it flew off those sleeping birds from their nests

Why  don’t you be weary of  those hapless people,

You may not know what all  they’ve gone  through

Even the trials and tribulations sorely faced by them

May never get etched  on the epitaph  at their graves

Don’t get consumed by the vague convictions, galore

That may not be pragmatic for the world, any more

One  stands so precariously on the edge of oblivion

Who once was known for breaking the wall of fame

Don’t ever let  the  conceited  vanity  ruin  you  over,

Must atone sometimes in the moments of loneliness!

 

~ Pravin Raghuvanshi

© Captain Pravin Raghuvanshi, NM

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry ☆ The Grey Lights# 34 – “The Earth” ☆ Shri Ashish Mulay ☆

Shri Ashish Mulay

? The Grey Lights# 34 ?

☆ – “The Earth” – ☆ Shri Ashish Mulay 

Sailor should keep Sailing,

Thinker should keep Thinking..

For waters are never Calm

and never Settled, The Meaning..

For Passion Left the House ,

Now search the worlds

Stumbled upon the Beauty,

While Wandering Empty..

Call it The Paradise

But could never call it Home

For we are the Banished,

Sons of The Eve..

© Shri Ashish Mulay

Sangli 

≈ Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares

ज्योतिष साहित्य ☆ साप्ताहिक राशिफल (19 फरवरी से 25 फरवरी 2024) ☆ ज्योतिषाचार्य पं अनिल कुमार पाण्डेय ☆

ज्योतिषाचार्य पं अनिल कुमार पाण्डेय

विज्ञान की अन्य विधाओं में भारतीय ज्योतिष शास्त्र का अपना विशेष स्थान है। हम अक्सर शुभ कार्यों के लिए शुभ मुहूर्त, शुभ विवाह के लिए सर्वोत्तम कुंडली मिलान आदि करते हैं। साथ ही हम इसकी स्वीकार्यता सुहृदय पाठकों के विवेक पर छोड़ते हैं। हमें प्रसन्नता है कि ज्योतिषाचार्य पं अनिल पाण्डेय जी ने ई-अभिव्यक्ति के प्रबुद्ध पाठकों के विशेष अनुरोध पर साप्ताहिक राशिफल प्रत्येक शनिवार को साझा करना स्वीकार किया है। इसके लिए हम सभी आपके हृदयतल से आभारी हैं। साथ ही हम अपने पाठकों से भी जानना चाहेंगे कि इस स्तम्भ के बारे में उनकी क्या राय है ? 

☆ ज्योतिष साहित्य ☆ साप्ताहिक राशिफल (19 फरवरी से 25 फरवरी 2024) ☆ ज्योतिषाचार्य पं अनिल कुमार पाण्डेय ☆

रामचरितमानस में गुरु जी के वंदना में तुलसीदास जी ने अपने गुरु को शंकर के रूप में स्वीकार किया है।

वन्दे बोधमयं नित्यं गुरुं शंकररूपिणम्।

यमाश्रितो हि वक्रोऽपि चन्द्रः सर्वत्र वन्द्यते॥

भावार्थ:- ज्ञानमय, नित्य, शंकर रूपी गुरु की मैं वन्दना करता हूँ, जिनके आश्रित होने से ही टेढ़ा चन्द्रमा भी सर्वत्र वन्दित होता है॥

पंडित अनिल पाण्डेय का आप सभी को नमस्कार। आज मैं अपने परम पूज्य गुरु जी की उपरोक्त शब्दों से ही वंदना कर 19 फरवरी से 25 फरवरी 2024 अर्थात विक्रम संवत 2080 शक संवत 1945 के शुक्ल पक्ष की दसमी से फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की परिवा तक के सप्ताह के साप्ताहिक राशिफल के बारे में चर्चा करने के लिए उपस्थित हूं।

इस सप्ताह प्रारंभ में चंद्रमा मिथुन राशि में रहेगा। 21 तारीख को 9:23 दिन से कर्क राशि में जाएगा। चंद्रमा 23 तारीख को 7:34 रात से सिंह राशि में गोचर करेगा।

इस पूरे सप्ताह सूर्य और शनि कुंभ राशि में रहेंगे, मंगल तथा शुक्र मकर राशि में रहेगा और गुरु मेष राशि में गोचर करेंगे। राहुल बक्री होकर मीन राशि में रहेगा। बुद्ध प्रारंभ में मकर राशि में रहेगा तथा 19 तारीख को 6:11 रात अंत से कुंभ राशि में प्रवेश करेगा।

इस सप्ताह 19, 23, 24 और 25 फरवरी को विवाह का शुभ मुहूर्त है। 19, 21 और 22 फरवरी को नामकरण और मुंडन का मुहूर्त है। उपनयन का मुहूर्त 19, 20 और 21 तारीख को है। 21 और 22 फरवरी को गृहारम्भ और अन्नप्राशन का मुहूर्त है। नामकरण का मुहूर्त 19, 21 और 22 फरवरी को है तथा व्यापार का मुहूर्त केवल 22 तारीख को है।

19 तारीख को सूर्योदय से 1:41 दिन तक तथा 22 तारीख को सूर्योदय से 5:26 सायंकाल तक सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग है।

आइये अब हम राशिवार राशिफल की चर्चा करते हैं।

मेष राशि

अगर आपके मूल कुंडली में दशा और अंतर्दशा अच्छी है तो मेष राशि के जातकों का प्रमोशन भी इस सप्ताह हो सकता है। आपका स्वास्थ्य इस सप्ताह उत्तम रहेगा। आपका अपने कार्यालय में प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। धन आने का योग है। व्यापार उत्तम चलेगा। जनता में प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। संतान की उन्नति होगी। संतान से आपके सहयोग प्राप्त होगा। इस सप्ताह आपके लिए 21, 22 और 23 फरवरी किसी भी कार्य को करने के लिए उत्तम और उपयुक्त हैं। 21, 22 और 23 फरवरी को आपके द्वारा किए गए अधिकांश कार्य सफल रहेंगे। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप आदित्य हृदय स्त्रोत का प्रतिदिन पाठ करें। सप्ताह का शुभ दिन बृहस्पतिवार है।

वृष राशि

इस सप्ताह भाग्य आपका भरपूर साथ देगा। भाग्य से आपको वह सब कुछ प्राप्त हो सकता है। इस सप्ताह आप जिस चीज के लिए प्रयास करेंगे उसमें आप सफलता प्राप्त होगी। आपके खर्चे में वृद्धि होगी। कार्यालय में आपकी अपने अधिकारी से थोड़ी बहुत बहस हो सकती है। बहस ना करें। ज्यादा अच्छा रहेगा। माता और पिताजी के स्वास्थ्य में थोड़ी-थोड़ी खराबी आ सकती है। आपका और आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य ठीक रहेगा। इस सप्ताह आपके लिए 24 और 25 फरवरी अनुकूल हैं। आप अपने कार्यों को 24 और 25 फरवरी को करने का प्रयास करें। सफलता मिलेगी। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप स्नान के उपरांत तांबे के पत्र में जल लेकर के उसमें अक्षत और लाल पुष्प डालकर भगवान सूर्य को अर्पण करें। सप्ताह का शुभ दिन शनिवार है।

मिथुन राशि

इस सप्ताह आपका और आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। धन आने की संभावना है परंतु धनहानि भी हो सकती है। भाई बहनों में से किसी एक से तनाव हो सकता है। दुर्घटनाओं से आप बच सकते हैं। पिताजी का स्वास्थ्य थोड़ा कम ठीक रहेगा। कार्यालय में आपको परेशानी हो सकती है। माता जी का स्वास्थ्य ठीक रहेगा। इस सप्ताह आपके लिए 19 और 20 फरवरी उत्तम है। बाकी दिन सामान्य है। 21, 22 और 23 फरवरी को धन प्राप्त की उम्मीद की जा सकती है। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप काले कुत्ते को रोटी खिलाएं। सप्ताह का शुभ दिन बुधवार है।

कर्क राशि

कर्क राशि के अविवाहित जातकों के लिए अच्छी खबर है। इस सप्ताह उनके विवाह की उत्तम प्रस्ताव आएंगे। कार्यालय में आपकी स्थिति में बदलाव हो सकता है। आपकी स्थिति पहले से अच्छी होगी। भाग्य से आपको कोई मदद प्राप्त नहीं होगा। आपको अपने पुरुषार्थ पर भरोसा करना पड़ेगा। दुर्घटनाओं हो सकती हैं। दुर्घटनाओं से सावधान रहें। भाई बहनों के साथ संबंध सामान्य रहेंगे। पिताजी का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। माता जी के पेट में पीड़ा हो सकती है। इस सप्ताह आपके लिए 21, 22 और 23 तारीख लाभदायक है। 21, 22 और 23 तारीख को आपके अधिकांश कार्य सफल होंगे। 19 और 20 तारीख को आपको सावधान रहकर कार्य करना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन भगवान शिव का अभिषेक करें। सप्ताह का शुभ दिन बृहस्पतिवार है।

सिंह राशि

इस सप्ताह आपका व्यापार उत्तम रहेगा। व्यापार से आपको काफी लाभ प्राप्त होने की उम्मीद है। आपके शत्रु परास्त हो जाएंगे। आपको अपने सभी शत्रुओं को परास्त करने का प्रयास करना चाहिए। इस सप्ताह भाग्य भी आपका साथ देगा। इस सप्ताह आपको दुर्घटनाओं से सावधान रहना चाहिए। पिताजी और माताजी का स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। कार्यालय में आपकी स्थिति ठीक-ठाक रहेगी। इस सप्ताह आपके लिए 24 और 25 फरवरी लाभदायक है। 21, 22 और 23 फरवरी को आपको सावधान रहकर कार्य करना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन रुद्राष्टक का पाठ करें। सप्ताह का शुभ दिन रविवार है।

कन्या राशि

इस सप्ताह आपके गुप्त शत्रु बन सकते हैं। इस सप्ताह आपको अपने संतान से सुख प्राप्त होगा। संतान की उन्नति भी होगी। छात्रों की पढ़ाई उत्तम चलेगी। आपके माताजी और पिताजी का स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। भाग्य से कोई विशेष लाभ प्राप्त नहीं होगा। परंतु भाग्य आपका नुकसान भी नहीं करेगा। आपका या आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। इस सप्ताह आपके लिए 19 और 20 तारीख उत्तम है। 21, 22 और 23 तारीख को आपको धन की प्राप्ति हो सकती है। 24 और 25 तारीख को आपको सावधान रहकर कार्य करना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन राम रक्षा स्त्रोत का जाप करें। सप्ताह का शुभ दिन बुधवार है।

तुला राशि

 इस सप्ताह आपकी संतान आपका सहयोग करेगी। छात्रों की पढ़ाई उत्तम चलेगी। पिताजी के स्वास्थ्य में परेशानी हो सकती है। आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। इस सप्ताह जनता में आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी। धन आने का योग बनेगा। कार्यालय में आपको परेशानी का सामना करना पड़ेगा। व्यापार में उन्नति होगी। आपके पेट में पीड़ा हो सकती है। पेट की पीड़ा से सावधान रहें। इस सप्ताह आपके लिए 21, 22 और 23 तारीख उत्तम है। सप्ताह के बाकी दिन ठीक-ठाक है। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करें। सप्ताह का शुभ दिन शुक्रवार है।

वृश्चिक राशि

इस सप्ताह आपके सुख में वृद्धि होगी। व्यापार उत्तम चलेगा। माता जी का स्वास्थ्य ठीक रहेगा। पिताजी का स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा। आपका और आपके जीवन साथी का स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। भाई बहनों के साथ उत्तम संबंध रहेगा। भाग्य आपका साथ नहीं देगा। कार्यालय में आपकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। शत्रुओं का संहार होगा। इस सप्ताह आपके लिए 24 और 25 तारीख शुभ है। 19 और 20 तारीख को आपको सतर्क रहकर कार्य करना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन शिव पंचाक्षर मंत्र का जाप करें। सप्ताह का शुभ दिन रविवार है।

धनु राशि

इस सप्ताह आपका और आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य ठीक-ठाक रहेगा। माता जी और पिताजी में से किसी एक का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। भाग्य सामान्य है। भाइयों के साथ अच्छे और खराब संबंध दोनों ही रहेंगे। धन आने का योग बनेगा। भाग्य आपका साथ देगा। दुर्घटनाओं से डरें। संतान की उन्नति होगी। इस सप्ताह आपके लिए 19 और 20 फरवरी अनुकूल है। 21, 22 और 23 तारीख को आपको सावधान रहकर कार्य करना चाहिए। 24 और 25 तारीख को भाग्य आपका साथ दे सकता है। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन गाय को हरा चारा खिलाएं। सप्ताह का शुभ दिन मंगलवार है।

मकर राशि

इस सप्ताह आपका व्यापार उत्तम चलेगा। धन आने की भी संभावना है। माता जी का स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। आपके सुख में वृद्धि हो सकती है। दूर यात्रा का योग भी बन सकता है। आपका स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। जीवनसाथी के स्वास्थ्य में थोड़ी परेशानी आ सकती है। जनता में आपकी प्रसिद्धि बढ़ेगी। दुर्घटनाओं से आप बच सकते हैं। इस सप्ताह आपके लिए 21, 22 और 23 तारीख शुभ है। सप्ताह के बाकी दिनों आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन भगवान शिव का अभिषेक करें। सप्ताह का शुभ दिन शुक्रवार है।

कुंभ राशि

इस सप्ताह आपका स्वास्थ्य ठीक रहेगा। परंतु मानसिक अशांति हो सकती है। व्यापार ठीक चलेगा। धन आने में थोड़ी बाधा है। भाई बहनों के साथ संबंध ठीक रहेंगे। आंख में कोई समस्या हो सकती है। कचहरी के कार्यों में सफलता का योग है। भाई बहनों के साथ संबंध ठीक रहेगा। शत्रुओं से आपको सावधान रहना चाहिए। जीवनसाथी के स्वास्थ्य में खराबी आ सकती है। इस सप्ताह आपके लिए 24 और 25 फरवरी सफलता दायक है। 24 और 25 फरवरी को आपको कई कार्यो में सफलता मिल सकती है। 21, 22 और 23 तारीख को आपको सावधान रहकर के ही कोई कार्य करना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप प्रतिदिन चिड़ियों को दाना दें। सप्ताह का शुभ दिन शनिवार है।

मीन राशि

इस सप्ताह आपके माता जी और पिताजी का स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। आपकी एक आंख में कुछ पीड़ा हो सकती है। व्यापार ठीक चलेगा। कर्ज में कमी होगी। आपका या आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है। आपकी संतान को भी परेशानी हो सकती है। धन आने का योग है। शत्रु समाप्त होंगे। इस सप्ताह आपके लिए 19 और 20 फरवरी का दिन परिणाम दायक है। 19 और 20 फरवरी को आपको कई सफलताएं मिल सकती हैं। 24 और 25 फरवरी को आपको सावधान रहना चाहिए। इस सप्ताह आपको चाहिए कि आप घर की बनी पहली रोटी गौ माता को दें। सप्ताह का शुभ दिन मंगलवार है।

आपसे अनुरोध है कि इस पोस्ट का उपयोग करें और हमें इस पोस्ट के बारे में बतायें।

मां शारदा से प्रार्थना है या आप सदैव स्वस्थ सुखी और संपन्न रहें। जय मां शारदा।

राशि चिन्ह साभार – List Of Zodiac Signs In Marathi | बारा राशी नावे व चिन्हे (lovequotesking.com)

निवेदक:-

ज्योतिषाचार्य पं अनिल कुमार पाण्डेय

(प्रश्न कुंडली विशेषज्ञ और वास्तु शास्त्री)

सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता, मध्यप्रदेश विद्युत् मंडल 

संपर्क – साकेत धाम कॉलोनी, मकरोनिया, सागर- 470004 मध्यप्रदेश 

मो – 8959594400

ईमेल – 

यूट्यूब चैनल >> आसरा ज्योतिष 

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

English Literature – Poetry ☆ – Ode of the Yore… – ☆ Captain Pravin Raghuvanshi, NM ☆

Captain Pravin Raghuvanshi, NM

(Captain Pravin Raghuvanshi—an ex Naval Officer, possesses a multifaceted personality. He served as Senior Advisor in prestigious Supercomputer organisation C-DAC, Pune. An alumnus of IIM Ahmedabad was involved in various Artificial Intelligence and High-Performance Computing projects of national and international repute. He has got a long experience in the field of ‘Natural Language Processing’, especially, in the domain of Machine Translation. He has taken the mantle of translating the timeless beauties of Indian literature upon himself so that it reaches across the globe. He has also undertaken translation work for Shri Narendra Modi, the Hon’ble Prime Minister of India, which was highly appreciated by him. He is also a member of ‘Bombay Film Writer Association’.)

We present his awesome poem ~ Ode of the Yore… ~We extend our heartiest thanks to the learned author Captain Pravin Raghuvanshi Ji, who is very well conversant with Hindi, Sanskrit, English and Urdu languages for sharing this classic poem.  

☆ Ode of the Yore… ?

The river keeps flowing in

the quietitude of the fields

But the stones and  rocks

chatter incessantly with it

A cool breeze does blow over

the flow of this raging river.

Boat may  be  dilapidated,

but it still braves the waves…

 *

O’ friends! Do gratify with

a  spark  from  somewhere,

This age-old lamp still has

unburnt wick soaked in oil…

 *

Like  the heart  of  the ruins,

-a silent witness of the time,

Its pain may appear mute,

yet it chimes sombre melodies

 *

Though  the dusk spreads a

sheet of darkness over the town

But still  this mystical dark

road leads to the bright dawn

 *

Now, there’s no grudge left

in the name of melancholy

As  it  keeps humming the

immortal  odes  of the yore…

~ Pravin Raghuvanshi

© Captain Pravin Raghuvanshi, NM

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry ☆ – Birth of a Poem… – ☆ Captain Pravin Raghuvanshi, NM ☆

Captain Pravin Raghuvanshi, NM

(Captain Pravin Raghuvanshi—an ex Naval Officer, possesses a multifaceted personality. He served as Senior Advisor in prestigious Supercomputer organisation C-DAC, Pune. An alumnus of IIM Ahmedabad was involved in various Artificial Intelligence and High-Performance Computing projects of national and international repute. He has got a long experience in the field of ‘Natural Language Processing’, especially, in the domain of Machine Translation. He has taken the mantle of translating the timeless beauties of Indian literature upon himself so that it reaches across the globe. He has also undertaken translation work for Shri Narendra Modi, the Hon’ble Prime Minister of India, which was highly appreciated by him. He is also a member of ‘Bombay Film Writer Association’.)

We present his awesome poem ~ Birth of a Poem… ~We extend our heartiest thanks to the learned author Captain Pravin Raghuvanshi Ji, who is very well conversant with Hindi, Sanskrit, English and Urdu languages for sharing this classic poem.  

☆ ❣️ Birth of a Poem ❣️?

❣️

Sayeth me, whenever one falls in love,

A Poet is born sometime, somewhere

Deep within my fathomless heart

I reckon that even more than the more..

That the lover Poet starts giving birth

in the form of the  lovelorn  verses  galore…

❣️ 

Believe me, falling in love makes one,

a ceaseless, perennial river of poetry,

For sure, this is when the universe begins

to conspire to compel the new born poets

to compose the most enchanting melodies…

 ❣️

I wonder, if the poets are divine nightingales

descended in our garden of roses on the earth,

singing heavenly odes, enthralling the angels

With their ever romantic tone of merriment..!

❣️

~ Pravin Raghuvanshi

© Captain Pravin Raghuvanshi, NM

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138

English Literature – Poetry – ☆ The market of life! ☆ Hemant Bawankar ☆

Hemant Bawankar

☆ The market of life! ☆ Hemant Bawankar ☆

The world

is a market of life!

 

New lives

born to sell.

Old lives

destroyed and thrown

away

from the throne.

 

None knows

the mentality of ones.

 

Some say

old is gold

some say

new to sold.

 

Requirement of new

was too much

so they purchased me

fully

when I was new.

 

Now, 

I am feeling

I have nothing of mine.

Body and soul;

thoughts and mind;

pulse and heart;

each and everything

is of customer

My Master!

My Lord!

My God!

and… his highness!

 

I’m sold

thus

I’m soldier

… of LIFE!

26th August 1977

(This poem has been cited from my book The Variegated Life of Emotional Hearts”.)

© Hemant Bawankar

Pune

≈ Blog Editor – Shri Hemant Bawankar/Editor (English) – Captain Pravin Raghuvanshi, NM ≈

Please share your Post !

Shares
Poetry,
Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /var/www/wp-content/themes/square/inc/template-tags.php on line 138
image_print