नेहांजलि – डॉ प्रेम कृष्ण श्रीवास्तव 

 

 

 

 

 

 

भाव संवेदना का नैवेद्य रूपः ’’नेहांजलि’’

(प्रस्तुत है डॉ प्रेम कृष्ण श्रीवास्तव जी के काव्य संग्रह “नेहांजलि” पर डॉ राम विनय सिंह, अध्यक्ष हिन्दी साहित्य समिति, एसोसिएट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग, डी0ए0वी0 (पी0जी0) कॉलेज,  देहरादून, उत्तराखण्ड के सकारात्मक एवं सार्थक विचार।) 

 

 

काव्य मानव-मन के सत्व चिन्तन से समुदगत वह शब्द-चित्र है जो रस- वैभिन्नय में भी आहलाद के धरातल पर सर्वथा साम्य की स्थापना करता है। जीवन के प्रत्येक रंग में प्राकाशिक भंगिमा की अलौकिक आनुभूतिक छटा की साकार शाब्दी- स्थापना काव्य का अभिप्रेत है। वाच्य-वाचक सम्बन्ध से सज्जित शब्दार्थ मात्र से भिन्न व्यंग्य-व्यंजक सम्बन्ध की श्रेष्ठता के साथ व्यंग्य-प्राधान्य में काव्य के औदात्य के दर्शन का रहस्य भी तो यही है। अन्यथा तो शब्द कोष मात्र ही महाकाव्य का मानक बन जाता। लोक में लोकोत्तर का सौन्दर्य बोध क्योंकर उतरता! नितान्त नीरव मन में अदृश्य अश्राव्य ध्वनि के संकेत प्रकृत पद से पृथक अर्थबोध कैसे करा पाते! यही कारण है कि कवि निरन्तर ही नव-नवोन्मेषशालिनी प्रतिभा के माध्यम से नित नूतन की खोज में सृजन करता रहता है, अनन्त आकाश से अपनी सामर्थ्य के अनुरूप चुम्बकीय शक्ति से शब्दार्थ को आकर्षित कर अभिव्यंजन अनामय आयाम रचता रहता है! और यह सिलसिला अनन्त काल से चली आ रही प्राकृतिक घटना है! न तो प्रकृति अपना निर्माण रोक सकती है, न प्रकृति का उद्घोषक और पोषक कवि इससे विमुख हो सकता है। सम्पूर्ण कवि-परम्परा इस प्रक्रिया के अनुपालन में ही निरत है।

यह अत्यन्त प्रसन्नता का विषय है कि वैज्ञानिक चेतना सम्पन्न हृदय में काव्य की नवोन्मेषी संवेदना लेकर डॉ0 प्रेम कृष्ण साहित्य देवता के मन्दिर में ’’नेहांजलि’’ रूपी भाव-नैवेद्य समर्पित करने आये हैं। उनके पवित्र हृदय में प्रेम की सपर्या विविध विच्छित्तियों के द्वार खोलती है। कामायन, कामिनी, कामायनी, कामना, काम्या, अनुभूति, अनुरक्ति, प्रेरणा, प्रार्थना, एंव भारती उपशीर्षकों के माध्यम से कवि ने तत्तद विभावानुभावव्यभिचारि के संयोग से तत्तद रसों की हृदयहारिणी व्यंजना का सफल प्रयास किया है। श्रृंगार की आत्मानुभूति में डूबे कवि को मन से मन तक की राह मिल जाती है जो अतीत से आती हुई खुशबू तक पहुँचाने में भावात्मक साहाय्य प्रदान करती है। नयन मिलन से अभिसार तक की साभिलाष भावनाओं की अभिव्यक्ति हो अथवा परस्पर ढूँढने की वांच्छा प्रत्येक स्तर पर कवि रागासक्ति के अधीन प्रीतिमार्ग को ही खोजता है। प्रेरणा, प्रार्थना, एंव भारती उपशीर्षकों में संकलित रचनाओं में कवि राग-पराग की मादक सुगन्धि से कुछ हट कर  युग धर्म की वेदना, लोकोत्तर की आराधना और राष्ट्र की साधना के पथ पर अग्रसर होते हैं जहाँ जीवन के इन्द्रधनुषी रंग उज्जवल प्रकाश में लीन होते से प्रतीत होते हैं।

निःसन्देह कवि के भाव अच्छे हैं परन्तु भाव-प्रवाणता और रागजन्य रसपेशलता के वशीभूत वैज्ञानिक कवि ने काव्य के विज्ञान की अनदेखी की है। मैं अपेक्षा करता हूँ कि काव्य सौन्दर्य की भावात्मक व्यंजना में कवि भविष्य में सावधान भी होगें और नूतनोंन्मेषी भी।

इस अभिनव काव्य संग्रह ’’नेहांजलि’’ के लिए मैं कवि डॉ0 प्रेम कृष्ण जी को सादर साधुवाद समर्पित करता हूँ और मंगल कामनाओं सहित वाग्देवी से प्रार्थना करता हूँ कि इस काव्य को अपेक्षित यश प्रदान करें।

  • डॉ0 राम विनय सिंह, अध्यक्ष हिन्दी साहित्य समिति, देहरादून, उत्तराखण्ड एंव, एसोसिएट प्रोफेसर, संस्कृत विभाग,  डी0ए0वी0 (पी0जी0) कॉलेज, देहरादून।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *