हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 5 – फेंकू ज्ञान ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

(डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ एक प्रसिद्ध व्यंग्यकार, बाल साहित्य लेखक, और कवि हैं। उन्होंने तेलंगाना सरकार के लिए प्राथमिक स्कूल, कॉलेज, और विश्वविद्यालय स्तर पर कुल 55 पुस्तकों को लिखने, संपादन करने, और समन्वय करने में महत्वपूर्ण कार्य किया है। उनके ऑनलाइन संपादन में आचार्य रामचंद्र शुक्ला के कामों के ऑनलाइन संस्करणों का संपादन शामिल है। व्यंग्यकार डॉ. सुरेश कुमार मिश्र ने शिक्षक की मौत पर साहित्य आजतक चैनल पर आठ लाख से अधिक पढ़े, देखे और सुने गई प्रसिद्ध व्यंग्यकार के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। तेलंगाना हिंदी अकादमी, तेलंगाना सरकार द्वारा श्रेष्ठ नवयुवा रचनाकार सम्मान, 2021 (तेलंगाना, भारत, के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के करकमलों से), व्यंग्य यात्रा रवींद्रनाथ त्यागी सोपान सम्मान (आदरणीय सूर्यबाला जी, प्रेम जनमेजय जी, प्रताप सहगल जी, कमल किशोर गोयनका जी के करकमलों से), साहित्य सृजन सम्मान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से और अन्य कई महत्वपूर्ण प्रतिष्ठात्मक सम्मान प्राप्त हुए हैं। आप प्रत्येक गुरुवार डॉ सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – चुभते तीर में उनकी अप्रतिम व्यंग्य रचनाओं को आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी विचारणीय व्यंग्य रचना फेंकू ज्ञान)  

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 5 – फेंकू ज्ञान ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆व

“आप रहने ही दीजिए। आपसे नहीं हो पाएगा। भैया जी आज के जमाने में लोगों को ज्ञान देने के लिए उन्हें अज्ञानी बनाना जरूरी है। केवल वाट्सप ग्रुप बनाकर एडमिन बने रहने से सिर्फ घांस छील पाओगे। ऐसा करते रहोगे तो समझो हो गया, कारवाँ गुज़र जाएगा और आप गुबार में ही फसें रहोगे। टुकड़ों में यहाँ-वहाँ से बटोरने से कुछ नहीं होता। यह फेंकू ज्ञान है। असली ज्ञान से भी ज्यादा कीमती। असली ज्ञान की तथ्यता स्रोतों, संदर्भों, इंटरनेट से सिद्ध हो जायेंगे। लेकिन फेंकू ज्ञान को जलेबीदार उलझाऊ बातों से सिद्ध करना पड़ता है। समझे बरखुरदार! मैं और मेरे जैसे अनेक बंधु ताजमहल, ज्ञानवापी, कुतुब मीनार, जामा मस्जिद, लाल किला देखकर लौट भी आये और अब खुदाई करने वालों सहित सब को अपना ज्ञान रोजाना परोस रहे हैं और आप यहीं व्यंग्य जैसी बेकार चीज़ लिख रहे हैं। आपने कल देखा नहीं कि ऊधर खोजी लोग ज्ञानवापी पहुँचे कि नहीं इधर ज्ञान की सहस्त्रधारा चहुँ ओर बह निकलीं थीं।”

बिअंग भैया जैसे व्यंग्यकार के भीतर से व्यंग्य का कीड़ा निकालने की कसम खाए फेंकूराम ने कहा- “हम वॉट्सऐपियों ने ही बताया कि ज्ञानवापी के तहखाने में शिवलिंग दैदीप्यमान की तरह चमक रहा है। एक से बढ़कर एक छवियाँ क्रॉप करके धड़ल्ले से पोस्ट कर डाले। सामने वाले की गैलरिया चुटकियों में फुल कर डाले। वह ससुरा इसी में उलझा रहेगा कि तस्वीरें देखें या गैलरी साफ करे। किसी की जगह पर कोई दूसरा कुछ बनाएगा तो खोजबीन होगी ही। आगे तेजोमहल का भी यही हाल होने वाला है। सारा इतिहास हम अपने व्हाट्सप में धरकर चलते हैं।  ज्ञानवापी से शिवलिंग की ली गयी पहली तस्वीर को खोजियों को प्राप्त करने, देखने और जारी करने के पहले ही हम व्हाट्सपवीरों ने उसे सोशल मीडिया में वायरल कर दिया था। सारी दुनिया जैसा करती है, वैसा आप भी किया करो बिअंग भाई। जानते नहीं, हाथी के दाँत दिखाने के कुछ और तथा खाने के कुछ और होते हैं। भीड़ तंत्र का हिस्सा बनो भीड़ तंत्र का। गधा भी अपने को कभी गधा नहीं बोलता, वह चुप रहने के बजाय मौका मिलते ही अपने को घोड़ा साबित करने पर तुल जाता है चाहे उसका ढेंचू-ढेंचू पसंद किया जाये या न किया जाए।

फेंकूराम ने कहा तुम मूरख के मूरख रहोगे। तुम्हारे काले अक्षर भैंस बराबर नहीं सारी दुनिया की कालिख बराबर है। तुम हमेशा अपनी मुर्गी की डेढ़ टांग पर अटक जाते हो। किसी चीज़ को समझने का प्रयास नहीं करते। अरे भाई जी, कुछ समझ में आये न आये, तो भी इस देश की पितृ भाषा अंग्रेजी में बोला करिये – यस, करेक्ट, सब समझ गया, आई कनो, आई कनो ऑल वैरी वेल। बिअंग भैया आपको कहीं भी ‘नो’ याने ‘नहीं’ तो भूल के भी नहीं बोलना है। ‘नो’ के स्थान पर ‘कनो’ चलेगा, दौड़ेगा। जानते हैं न, आजकल सोशल मीडिया में सब कुछ दौड़ रहा है। सारी दुनिया दौड रही है, आप भी उस मैराथान दौड की भीड़ में शामिल हो जाइए। आप ये जताइए कि आप को सब आता है।” बिअंग भैया इससे आगे नहीं सुन सकते थे। उन्होंने हाथ जोड़े और फेंकूराम की सुबह को शाम और शाम को सुबह बोलने का वादा कर वहाँ नौ दो ग्यारह हो गए।

© डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

संपर्क : मोबाइलः +91 73 8657 8657, ई-मेल : [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆ शेष कुशल # 40 ☆ व्यंग्य – “वे छोटा कुछ सोच ही नहीं पाते हैं…” ☆ श्री शांतिलाल जैन ☆

श्री शांतिलाल जैन

(आदरणीय अग्रज एवं वरिष्ठ व्यंग्यकार श्री शांतिलाल जैन जी विगत दो  दशक से भी अधिक समय से व्यंग्य विधा के सशक्त हस्ताक्षर हैं। आपकी पुस्तक  ‘न जाना इस देश’ को साहित्य अकादमी के राजेंद्र अनुरागी पुरस्कार से नवाजा गया है। इसके अतिरिक्त आप कई ख्यातिनाम पुरस्कारों से अलंकृत किए गए हैं। इनमें हरिकृष्ण तेलंग स्मृति सम्मान एवं डॉ ज्ञान चतुर्वेदी पुरस्कार प्रमुख हैं। श्री शांतिलाल जैन जी  के  स्थायी स्तम्भ – शेष कुशल  में आज प्रस्तुत है उनका एक विचारणीय व्यंग्य  वे छोटा कुछ सोच ही नहीं पाते हैं.…”।) 

☆ शेष कुशल # 40 ☆

☆ व्यंग्य – “वे छोटा कुछ सोच ही नहीं पाते हैं…” – शांतिलाल जैन 

एक था मुल्क. मुल्क का था एक बादशाह. आईन से गद्दीनशीन हुआ था. बैलट बॉक्स से निकला हुआ. नए दौर में लिखें तो ईवीएम् से निकला था. बड़े सपने देखता था. कहता था – ‘मैं छोटा कुछ सोच ही नहीं पाता हूँ.’ बड़ा मुल्क, बड़ा बादशाह, बड़ी सोच, बड़े सपने तो गरीब और गरीबी छोटी कैसे रह पाती! जब उसने कहा कि मेरा मुल्क सबसे ऊपर रहना चाहिए तब उसका मतलब रहा आया कि दुनिया में सबसे ज्यादा गरीब हों तो उसके मुल्क में हों. डंका बजे तो उसके मुल्क की गरीबी का बजे. इसके लिए उसने गरीबों को और अधिक गरीब बनाने में कोई कसर बाकी उठा न रखी थी.

एक रोज़ उसने महल की छत पर खड़े होकर एक नज़र अपनी रियाया और रियासत पर डाली. मुतमईंन हुआ. दूर, जहाँ तक नज़र जा पाती शहर की झुग्गी-बस्तियों से लेकर गांवों की झोपड़ियों तक में गरीब ही गरीब नज़र आते. अस्सी करोड़ गरीब. अनाज़ के शाही गोदामों से निकली खैरात से पेट पालती रियाया. उसने व़जीर-ए-खज़ाना से पूछा गरीबी में हम कब तलक अव्वल रह सकते हैं? उसने कहा – ‘जान की अमान हो जहाँपनाह, इसे आप इस तरह समझिए कि हमारे मुल्क की किसी कंपनी का सबसे ऊँचा ओहदेदार अपनी तनख्वाह से एक साल में जितना कमाता है उसी फैक्ट्री में न्यूनतम मजदूरी पाने वाले एक मुलाज़िम को उतना कमाने में नौ सौ इकतालीस बरस लगेंगे.’

‘नौ सौ इकतालीस बरस!! और इस बीच रियाया बग़ावत कर बैठी तो?’

‘पेट में अन्न पड़ा रहेगा तो इन सालों को सालों क्रांति की याद भी नहीं आएगी.  कभी लड़ें भी तो मज़हब, जाति, कौम के नाम पर आपस में लड़ जाएँगे, निज़ाम से नहीं लड़ पाएँगे. आप नाहक परेशान न हों आलम पनाह, जब तक आपका निज़ाम कायम है तब तक आपका इक़बाल बुलंद है.’

बादशाह को तसल्ली हुई. बड़ा मुल्क, बड़ा बादशाह, बड़ी सोच, बड़े सपने. बड़ा होने की तमन्ना ठहरती कब है ज़नाब. उसने फिर से रियाया और रियासत पर नज़र दौड़ाई. गरीबी के दरिया के बीच समृद्धि के चंद टापू नज़र आए. मुल्क की रियाया के महज़ एक फ़ीसद लोग संपत्ति की चालीस फ़ीसदी पर काबिज़. आलीशान और मालामाल. बादशाह ने वजीर-ए-खज़ाना की ओर सवालिया नज़र से देखा तो उसने धीरे से अर्ज़ किया – ‘नहीं, हम अव्वल नहीं है जहाँपनाह. अरबपतियों की संख्या में हमारा मुल्क अभी नंबर तीन पर है.’

एक लेडी होने के चलते बच गई वजीर-ए-खज़ाना वर्ना इतनी चूक पर बादशाह वजीर की खाल में भूस भरवा देता. उसने बस इतना ही कहा – ‘अगले पाँच बरस में सबसे ज्यादा अरबपति भी हमारे मुल्क में होने चाहिए.’

‘आपका परचम बुलंद रहे जहाँपनाह, काम जारी है.’ – हुकुम सर आँखों पर धरते हुवे मोहतरमा ने कहा –‘सदी की शुरुआत में दुनिया के अरबपतियों की फेहरिस्त में अपन के मुल्क से दस से भी कम अमीर शामिल हो पाए थे, आज सैंकड़ा पार कर गए हैं. बेफिक्र रहें आप, जरूरत पड़ी तो आईन बदल देंगे मगर आपका कौल पूरा हो कर रहेगा. शाही खजाने से निकलती धाराएँ, नीतियों की नहरों से होती हुई, उनकी तिजोरियों की ओर घुमा दी गई हैं.  बहाव अब और तेज़ किए जाएँगे. रेल अड्डे, बस अड्डे, हवाई अड्डे, बंदरगाहें, खानें-खदानें, जल, जंगल, जमीनें, बहाव कोई सा भी हो किधर से भी गुजरे – समाएगा तो उन्हीं की तिजोरियों में जाकर. पहले एशिया के सबसे अधिक रईसों में शुमार, फिर दुनिया के अव्वल सौ में, फिर दस में. और एक दिन दुनिया का सबसे धनवान, अपन के मुल्क का शहरी.’

बादशाह ने राहत की सांस ली. गरीबी तेज़ी से बढ़ रही है तो अमीरी भी. उसे फ़ख्र महसूस हुआ. सही दिशा में जा रहा है उसका निज़ाम. मालियात के फैसलों को विकास की सड़क पर बायीं ओर चलने से रोकना ही पड़ता है. आल्वेज कीप राईट. जब तक अमीर और अधिक अमीर नहीं होंगे तब तक गरीब और अधिक गरीब कैसे होंगे!!

शाम ढलने को थी. उसने निशान-ए-मुल्क के चार में एक शेर के सिर पर प्यार से हाथ फेरा और धीरे से पूछा – ‘माय डियर पत्थर के सनम, ठीक चल रहा ना!’ शेर को मन ही मन बादशाह पर दया आई. उसने कहना चाहा कि कितने सम्राटों, चक्रवर्तियों, बादशाहों ने ये भूल की है. जिस दिन मुल्क के अमीर-उमरावों की इमारतों की ऊँचाई शाही महल की ऊँचाई से ऊपर निकल गई, उस दिन निज़ाम उनका होगा तुम्हारा नहीं बादशाह. मगर वो चुप रहा.

फ़िलवक्त बादशाह मुतमईन है. उसका निज़ाम अमीरों की संख्या में अव्वल नंबर होने को है तो गरीबों की संख्या में भी वही तो है. अव्वल नंबर होना उसे सबसे ज्यादा सुहाता है.

-x-x-x-

© शांतिलाल जैन 

बी-8/12, महानंदा नगर, उज्जैन (म.प्र.) – 456010

9425019837 (M)

 संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 4 – अंतर्मन का भाषण ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

(डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ एक प्रसिद्ध व्यंग्यकार, बाल साहित्य लेखक, और कवि हैं। उन्होंने तेलंगाना सरकार के लिए प्राथमिक स्कूल, कॉलेज, और विश्वविद्यालय स्तर पर कुल 55 पुस्तकों को लिखने, संपादन करने, और समन्वय करने में महत्वपूर्ण कार्य किया है। उनके ऑनलाइन संपादन में आचार्य रामचंद्र शुक्ला के कामों के ऑनलाइन संस्करणों का संपादन शामिल है। व्यंग्यकार डॉ. सुरेश कुमार मिश्र ने शिक्षक की मौत पर साहित्य आजतक चैनल पर आठ लाख से अधिक पढ़े, देखे और सुने गई प्रसिद्ध व्यंग्यकार के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। तेलंगाना हिंदी अकादमी, तेलंगाना सरकार द्वारा श्रेष्ठ नवयुवा रचनाकार सम्मान, 2021 (तेलंगाना, भारत, के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के करकमलों से), व्यंग्य यात्रा रवींद्रनाथ त्यागी सोपान सम्मान (आदरणीय सूर्यबाला जी, प्रेम जनमेजय जी, प्रताप सहगल जी, कमल किशोर गोयनका जी के करकमलों से), साहित्य सृजन सम्मान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से और अन्य कई महत्वपूर्ण प्रतिष्ठात्मक सम्मान प्राप्त हुए हैं। आप प्रत्येक गुरुवार डॉ सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – चुभते तीर में उनकी अप्रतिम व्यंग्य रचनाओं को आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी विचारणीय व्यंग्य रचना अंतर्मन का भाषण)  

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 4 – अंतर्मन का भाषण ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

एक मंत्री जी अपने जीवन की अंतिम साँसें गिन रहे थे। उनके पास अधिक समय नहीं था। सो उन्होंने अपने लड़के को पास बुलाया और कहा – “मुझे नहीं पता कि मैं और कितनी देर जी पाऊँगा। मैं चंद पलों का मेहमान हूँ। तुमने मेरे कई भाषण सुने हैं। ये सभी बाहरी भाषण हैं। इन्हें हर कोई सुन सकता है। लेकिन मैं तुम्हें आज एक भाषण सुनाऊँगा जो तुम्हें बाहर नहीं अपने अंतर्मन में हमेशा दोहराना होगा। यदि तुम इस भाषण का गूढ़ार्थ समझ गए तो तुम्हें किसी चीज़ की कमी नहीं खटकेगी। सफलता तुम्हारे क़दम चूमेगी। तो ध्यान से सुनो–

भाइयो और बहनो! मैं सबको हाथ जोड़कर सिर झुकाए प्रणाम करता हूँ। आपको पता है कि मेरे पिता ने किस तरह विश्वास दिलाकर, वोट हथियाकर, विधायक बने, फिर मंत्री बनकर करोड़ो रुपए डकार गए। आपको भनक तक नहीं लगने दी। दूधमुँहे बच्चों के दूध से लेकर पूँजीपतियों को ज़मीन मंजूर करने तक की हर स्कीम में एक से बढ़कर एक स्कैम किए, इन स्कैमों के चलते जो नाम कमाया है, वह किसी से छिपा नहीं है। उनका नाम टाइप करने भर से गूगल का सर्च इंजन काँपने लगता है। धरती फटने लगती है। उसी फटी धरती में खुद धरती माँ समाने के लिए मचलने लगती है। सरकार ने मेरे पिता को एक सौ करोड़ रुपए देकर गरीबों के लिए घर बनाने को कहा तो उन्होंने आपको झुग्गी-झोपड़ियाँ बनाकर दी। अब आप पूछेंगे कि वे सौ करोड़ रुपए कहाँ गए, तो मैं उसका पूरा हिसाब लेकर आया हूँ। तो सुनिए, पचास करोड़ में हमारे लिए दिल्ली में सभी ऐशो-आराम वाला गेस्ट हाऊस बनवाया। शेष बचे रुपयों से अपनी रखैल के लिए शॉपिंग मॉल बनवाया। आप लोगों से आऊटर रिंग रोड के नाम पर खेती करने वाली ज़मीनें छीनकर प्राइवेट कंपनियों के मालिकों को बेच डाला। इतना सब करने के बावजूद किसी ने मेरे पिता को भ्रष्टाचारी कहने की हिम्मत नहीं की। न जाने कितनी हत्याएँ कीं, बलात्कार किए, ज़मीन हड़पी लेकिन किसी ने चूँ तक नहीं की। बल्कि उनके लिए आप विरोधियों से लड़ गए। चुनाव के समय एक दारू की बोतल, बिरयानी पैकट और एक हरी पत्ती फेंकने पर कुत्तों से भी अधिक दुम हिलाकर विश्वास दिखाने वाली आपकी कला पर हमें गर्व है।

मेरे देशवासियों चिंता मत कीजिए। पिता जी नहीं रहे तो क्या हुआ, मैं तो हूँ न। मेरे पिता द्वारा स्थापित कीर्तिमान को साक्षी मानते हुए मैं आपसे प्रण करता हूँ कि अंतरिक्ष में जितने तारे हैं, मैं उनसे भी ज्यादा स्कैम करूँगा। मैं अपने पिता को किसी भी सूरत में निराश नहीं होने दूँगा। उन्होंने आपके लिए कम से कम झुग्गी-झोपड़ियाँ तो बनवाईं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि आपकी झुग्गी-झोपड़ियाँ नेस्तनाबूद करके आप सभी को मंदिरों की चौखट पर भीख माँगने के लिए मजबूर कर दूँगा। मेरे पिता जी ने आऊटर रिंग रोड के नाम पर आपकी आधी ज़मीनें छीन लीं। मैं उन्हीं का बेटा हूँ। मुझमें उन्हीं का असली खून दौड़ता है। मैं बिना हड़पे कैसे रह पाऊँगा। मैं एयरपोर्ट के नाम पे झूठा वादा करके बाकी बची ज़मीनें भी छीन लूँगा।

सोचिए देशवासियों  मैं यह सब आपको क्यों बता रहा हूँ। इसलिए कि मैंने आप जैसी मूरख जनता कहीं नहीं देखी है। मेरे पिता ने लाख स्कैम किए, बलात्कार किए, हत्याएँ कीं, फिर भी आप उन्हें जिताते रहे। जब तक आप जैसे भेड़ हैं तब तक मुझ जैसे लकड़बग्घों का चुनाव में खड़ा होना ज़रूरी है।  मुझे और मेरे परिवार को पता चल गया है कि आपमें शर्म-हया नाम की चीज़ नहीं बची है। मैं आपके खून-पसीने की कमाई से विदेश में महंगी पढ़ाई के साथ-साथ मौज मस्ती करता रहा और आप थे कि अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए भी तरस गए। मेरे पिता अक्सर कहा करते थे कि मूरख जनता को मूरख न बनाना हमारी मूरखता होगी। उन्होंने कहा था कि नेता के पेट से नेता और गरीब के पेट से गरीब ही पैदा होता है। विधायक से मंत्री बनना मेरे पिता का खानदानी बिजनेस है। मैं उसी बिजनेस की परंपरा निभा रहा हूँ। इस बार मैं चुनाव में खड़ा हूँ। विश्वास है कि बगैर बुद्धिमानी दिखाए अपनी मूरखता से मुझे अवश्य विजयी बनाओगे। मूरखता दिखाना आपकी खानदानी आदत है तो उसे भुनाना हमारी। मैं विश्वास दिलाता हूँ कि यह परंपरा यहाँ नहीं रुकेगी। आज मैं जीतूँगा तो कल मेरा बेटा जीतेगा। आज मैं विधायक बनूँगा तो कल मेरा बेटा विधायक बनेगा। आज मैं मंत्री बनूँगा तो कल मेरा बेटा मंत्री बनेगा। और आप पहले भी भेड़ थे, आज भी भेड़ हैं और आगे भी भेड़ रहेंगे।”

इतना कहते हुए मंत्री जी ने दम तोड़ दिया।

© डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

संपर्क : मोबाइलः +91 73 8657 8657, ई-मेल : [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 3 – एक फैले हुए पेट की चर्बी कथा ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

(डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ एक प्रसिद्ध व्यंग्यकार, बाल साहित्य लेखक, और कवि हैं। उन्होंने तेलंगाना सरकार के लिए प्राथमिक स्कूल, कॉलेज, और विश्वविद्यालय स्तर पर कुल 55 पुस्तकों को लिखने, संपादन करने, और समन्वय करने में महत्वपूर्ण कार्य किया है। उनके ऑनलाइन संपादन में आचार्य रामचंद्र शुक्ला के कामों के ऑनलाइन संस्करणों का संपादन शामिल है। व्यंग्यकार डॉ. सुरेश कुमार मिश्र ने शिक्षक की मौत पर साहित्य आजतक चैनल पर आठ लाख से अधिक पढ़े, देखे और सुने गई प्रसिद्ध व्यंग्यकार के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। तेलंगाना हिंदी अकादमी, तेलंगाना सरकार द्वारा श्रेष्ठ नवयुवा रचनाकार सम्मान, 2021 (तेलंगाना, भारत, के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के करकमलों से), व्यंग्य यात्रा रवींद्रनाथ त्यागी सोपान सम्मान (आदरणीय सूर्यबाला जी, प्रेम जनमेजय जी, प्रताप सहगल जी, कमल किशोर गोयनका जी के करकमलों से), साहित्य सृजन सम्मान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से और अन्य कई महत्वपूर्ण प्रतिष्ठात्मक सम्मान प्राप्त हुए हैं। आप प्रत्येक गुरुवार डॉ सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – चुभते तीर में उनकी अप्रतिम व्यंग्य रचनाओं को आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी विचारणीय व्यंग्य रचना एक फैले हुए पेट की चर्बी कथा।)  

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 3 – एक फैले हुए पेट की चर्बी कथा ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

न मैं आकाश अंबानी हूँ। न अच्छी-खासी सैलरी वाला इंसान। मैं निरा मोटू हूँ। सौ कैरट शुद्ध सोने की तरह शुद्ध सौ फीसदी चर्बी वाला मोटू। मोटुओं के लिए जीने की जिम्मेदारी बड़ी चैलेंजिंग होती है। उससे भी बड़ा भैया बनने का ख्याल। जब लड़कियाँ मुझ जैसे मोटुओं को देखती हैं, तो उन्हें लगता है कि इन्हें सच्चे प्यार के बजाय खाना पसंद है। शायद इसीलिए वे मोटुओं को देखते ही “भैया” कह देती हैं। पर क्या वे जानती हैं कि मोटुओं का भी दिल होता है, और उनमें भी प्यार के ख्वाब होते हैं? यह जानकर मुझे भी विचार आता है कि कहीं भैया बनने का ख्याल परमानेंट न हो जाए, क्या मुझे प्यार करने का अधिकार नहीं है? यह सब इसलिए बता रहा हूँ कि मैं बहुत मोटू हूँ। मोटुओं की परेशानियाँ मोटू ही जानते हैं। जिस तरह महात्मा गांधी देश के राष्ट्रपिता हैं, ठीक उसी तरह हर मोटू लड़का देश भर की लड़कियों के लिए भैया होते हैं।  पता नहीं क्यों लड़की मुझे देखते ही भैया कह देती है। क्या उसे नहीं पता कि मेरा भी एक मन होता है। मुझे भी प्यार करने की इच्छा होती है। जब से खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है, मुहावरा सुना है, तब से लड़कियाँ तो लड़कियाँ बड़ी-बूढ़ी महिलाएँ भी मुझे भैया कहकर दूर बैठने की सलाह देती हैं। मानो ऐसा लगता है मुझ जैसे मोटुओं को देखते ही उनके भीतर की ऐसी ग्रंथियाँ जो गबरू जवान को पहचानकर नैन मटक्का करने लगती हैं, तुरंत संस्कारों में बदलकर दुनियाभर का सम्मान परोसने पर आमादा हो जाती हैं। मेरा हाल तो उस समय और बुरा हो जाता जब माँ की उम्र सी लगने वाली महिला जिसके बाल चूने की सफेदी से चुनौती लेने के लिए मचल उठते हैं, वे भी मुझे भैया कहकर बुलाने में कोई झिझक महसूस नहीं करती हैं। मुझे भी लगा कि उन्हें माँ कहकर पुकारूँ, लेकिन मैं उनकी तरह खुले विचारों वाला नहीं था।

मुझ जैसों का एक फेवरेट ड्रेस होता है। एक इसलिए क्योंकि मोटुओं के लिए कंपनियाँ ड्रेसेस ही नहीं बनातीं। न जाने इनको किसने सिखा दिया कि मोटुओं के लिए सिलेंडर टाइप का कुछ बना दो उसी में वे खुद को अडजस्ट कर लेंगे। न हमारे लिए कोई कलर की च्वाइस होती है न कोई डिजाइन की। कभी-कभी तो लगता  है कि इन कंपनियों को आग लगा दूँ। फिर सोचता हूँ कि ऐसा करने पर जो एकाध ड्रेस मिल रहा है, वह भी भला देने वाला कौन बचेगा। शॉपिंग मॉल जाकर ड्रेस खरीदने की पीड़ा शब्दों में बयान करना मुश्किल है। सेल्समैन चुहल करने की फिराक़ में या फिर कुछ और सोचकर जानलेवा मज़ाक करते हुए पूछता है – बताइए सर आपके लिए किस साइज की जिंस दिखाऊँ? 32  कि 34 या फिर स्लिम फिट? अब मैं उसे कैसे बताऊँ मोटुओं के लिए स्लिम नाम के शब्द से कोई ड्रेस नहीं बनता। फिर वही थक-हारकर 44 साइज़ का एक झिंगोला देते हुए उसे कुछ अंग्रेजी वाले नाम से मुझे चिपका देता है।  शॉपिंग मॉलों में ड्रेस खरीदने का यह स्टंट मुझ जैसे मोटुओं के लिए कितना विचित्र होता है, यह जानने के लिए कोई अद्भुत सोच नहीं हो सकती।

यह सब शॉपिंग मॉल के बगल लगाई तीन दुकानों की वजह से होता है। जब भी यहाँ आता हूँ इन तीन दुकानों के दर्शन करना नहीं भूलता। पहली दुकान का नाम हंगर ग्रिल्स, दूसरी का भोलेनाथ चाटभंडार और तीसरी का डिलिशियस आइसक्रीम। यहाँ आने से पहले जितना भी जिम कर दो-तीन इंच घटाकर आता हूँ उतना ही बढ़ाकर जाता हूँ। वह क्या है न कि मैं किसी का हिसाब बाकी नहीं रखता। जिम का एहसान इन दुकानों को चुकाकर परमशांति का आभास होता है।  यह शॉपिंग मॉल न केवल मुझ जैसे मोटुओं की पसंदीदा जगह है, बल्कि इसे एक विशेष क्रांतिकारी जगह के रूप में भी देखा जा सकता है – ‘शॉपिंग जिम’। जी हाँ, आपने सही सुना, जिम। शॉपिंग के साथ-साथ पेटफोड़ एक्सरसाइज करने के लिए स्वादिष्ट व्यंजन भी मिलते हैं। जिम करने के बजाय, आप यहाँ पर भी अपने मास्टर कुकिंग की बजाय ईटिंग कौशलों को बढ़ा सकते हैं। शॉपिंग मॉल के इस क्रांतिकारी आविष्कार की वजह से अब मैं दुकानों की भीड़ में खो जाने की बजाय, अपने मोटू जीवन के हर क्षण को सही ढंग से एंजॉय करने का आदी हो जाता हूँ।     

लोग सोचते हैं कि मोटू लड़कों को केवल ड्रेस ढूँढ़ने की परेशानी होती है। जब वह कपड़े की दुकान में कदम रखता है, तो यह उनके लिए जंगल के अंदर एक खतरनाक सफर जैसा होता है, जहाँ हर आउटफिट उनके आत्मसम्मान को हजारों टुकड़ों में कुचलने की धमकी देता है। मुझ जैसे मोटू लड़के समाज की लगातार निगरानी में रहते हैं, जहाँ यह मोटी चर्बी वाली उदरकथा आम जनता के लिए चर्चा का विषय बनी रहती हैं। लोग मेरे खाने-पीने की आदतों, व्यायाम शैलियों, और उठने-बैठने के आधार पर निःशुल्क सलाह देने को अपना अधिकार समझते हैं। और ऊपर से उनकी व्यंग्योक्तियों के अंतहीन कथन -: “तुम्हारे पास इतना चब्बी-चब्बी चेहरा है, अगर तुम थोड़ा वजन कम कर लो तो।” जैसे मूल्यांकन सहने पड़ते हैं। सच कहें तो पतलेपन के पवित्र मंदिर में पूजा करने वाली दुनिया में, मोटुओं को अपना अंतरिक्ष खुद बनाना पड़ता है।

© डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

संपर्क : मोबाइलः +91 73 8657 8657, ई-मेल : [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ परिहार जी का साहित्यिक संसार # 239 ☆ व्यंग्य – ‘भविष्य का भूत’ ☆ डॉ कुंदन सिंह परिहार ☆

डॉ कुंदन सिंह परिहार

(वरिष्ठतम साहित्यकार आदरणीय  डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  का साहित्य विशेषकर व्यंग्य  एवं  लघुकथाएं  ई-अभिव्यक्ति  के माध्यम से काफी  पढ़ी  एवं  सराही जाती रही हैं।   हम  प्रति रविवार  उनके साप्ताहिक स्तम्भ – “परिहार जी का साहित्यिक संसार” शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते  रहते हैं।  डॉ कुंदन सिंह परिहार जी  की रचनाओं के पात्र  हमें हमारे आसपास ही दिख जाते हैं। कुछ पात्र तो अक्सर हमारे आसपास या गली मोहल्ले में ही नज़र आ जाते हैं।  उन पात्रों की वाक्पटुता और उनके हावभाव को डॉ परिहार जी उन्हीं की बोलचाल  की भाषा का प्रयोग करते हुए अपना साहित्यिक संसार रच डालते हैं।आज प्रस्तुत है आपका एक विचारणीय व्यंग्य – भविष्य का भूत। इस अतिसुन्दर रचना के लिए डॉ परिहार जी की लेखनी को सादर नमन।)

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – परिहार जी का साहित्यिक संसार  # 239 ☆

☆ व्यंग्य – भविष्य का भूत

उसे दिन नन्दलाल की दूकान में घुसा तो देखा एक युवक नन्दलाल की हथेली अपने हाथों में लिये उसे गौर से देख रहा है। युवक दुबला पतला था, महीने दो-महीने की दाढ़ी बढ़ाये।

मुझे देखकर नन्दलाल बोला, ‘ये राम अरदास शास्त्री हैं। हस्तरेखा के अच्छे जानकार हैं।’

मैं आदतन मज़ाक के मूड में आ गया। प्रभावित होने का भाव दिखाकर मैंने ‘अच्छा’ कहा।

वह माथे पर बल डाले नन्दलाल को बता रहा था, ‘आपको कहीं से संपत्ति मिलने का योग है। चालीस साल की आयु के बाद से आपकी स्थिति में निश्चित सुधार है। कुछ परेशानियाँ भी हैं, लेकिन हल हो जाएँगीं।’

मैं बैठा बैठा मज़ा ले रहा था। जैसे ही उसने नन्दलाल का हाथ छोड़ा, मैंने अपना हाथ उसकी तरफ बढ़ा दिया। कहा, ‘कुछ अपना भी देखो,शास्त्री जी।’

वह देर तक मेरी हथेली को उलटता पलटता रहा, फिर बोला, ‘अभी तक तो आपका समय अच्छा कटा, लेकिन अगला साल कुछ गड़बड़ है। आप अँगूठी में पुखराज धारण करें।’

मैंने झूठी गंभीरता से पूछा, ‘पुखराज कितने में आएगा शास्त्री जी?’

वह बोला, ‘करीब तीन चार हजार का।’

अब मैं अपनी असलियत पर आ गया। मैंने हँसकर कहा, ‘शास्त्री जी, तीन चार हजार का पुखराज पहनने के बजाय अगर यही रकम अपने साहब की मस्केबाज़ी में खर्च करूँ तो आगे आने वाले कई साल शुभ हो जाएँगे।’

वह स्पष्टतः नाराज़ हो गया। उसका चेहरा लाल हो गया। गुस्से में बोला, ‘तो साफ साफ सुनना चाहते हैं?’

मैंने कहा, ‘सुनाइए।’

वह आवेश में बोला, ‘तो सुनिए। अगले साल के सितंबर माह तक आपके गोलोक वासी होने का योग बनता है। इसे बिल्कुल निश्चित समझिए। अपनी वसीयत वगैरह कर डालिए और तैयार हो जाइए।’

मैंने कहा, ‘और अगर मैं इस धरती पर टिका रहा तो?’

वह हाथ पटक कर बोला, ‘मैं पाँच सौ रुपये की शर्त लगाने को तैयार हूँ।’

शर्त लग गयी। नन्दलाल हम दोनों के लिए जिम्मेदार बन गया। जो हारेगा उसकी तरफ से नन्दलाल पाँच सौ रुपये जीतने वाले को देगा।

मैंने बात को गंभीरता से नहीं लिया, बल्कि उसे भूल भी गया। अगला साल भी शुरू हो गया और महीने खिसकने लगे।

जुलाई में एक दिन नन्दलाल मुझसे बोला, ‘यार, यह शास्त्री तो आजकल बहुत परेशान कर रहा है।’

मैंने पूछा, ‘क्या हुआ?’

वह बोला, ‘वह अंतरे दिन तुम्हारे स्वास्थ्य की रिपोर्ट लेने आ जाता है। पूछता है तबियत कैसी चल रही है? स्वास्थ्य पहले जैसा ही है या कुछ गड़बड़ है? तुम्हारी तबियत पर गिद्ध जैसी नज़र जमाये है।’

उसी माह में मुझे सर्दी खाँसी हो गयी। आठ दस दिन तक नन्दलाल की दूकान पर नहीं जा पाया। एक दिन सड़क की तरफ वाले कमरे में लेटा था कि एकाएक देखा कि शास्त्री खिड़की में से झाँक रहा है। मैं बाहर आया तो वह दूर जल्दी-जल्दी जाता दिखा।

एकाध बार देखा वह मुहल्ले के बच्चों से मेरे मकान की तरफ उँगली उठाकर कुछ पूछ रहा है। मुहल्ले के लोगों ने बताया कि वह अक्सर मुहल्ले में मंडराता रहता है और मेरे स्वास्थ्य के बारे में पूछता रहता है। ज्यों ज्यों समय बीतता जा रहा था, उसकी परेशानी बढ़ती जा रही थी।

अगस्त माह के अन्त में मेरे साले साहब की शादी पड़ गयी। बहुत दिनों से ससुराल नहीं गया था। एक महीने की छुट्टी लेकर चल दिया।

जिस दिन मुझे रवाना होना था उसके पहले दिन शाम को शास्त्री नन्दलाल की दूकान में मुझे मिला। पूछने लगा, ‘सुना है आप बाहर जा रहे हैं?’

मैंने ‘हाँ’ कहा तो वह थोड़ा रुक कर बोला, ‘ध्यान रखिएगा, यह अगस्त का महीना है। मेरे लिए पाँच सौ रुपये और प्रतिष्ठा का सवाल है। दो-तीन दिन में नन्दलाल जी के पते से पत्र देते रहिएगा। मेरा जी आपका स्वास्थ्य में लगा रहेगा।’

मैंने हँसकर कहा, ‘ज़रूर।’

ससुराल पहुँचने पर हर तीसरे दिन उसका कार्ड पहुँचने लगा— ‘प्रिय भाई, अपने स्वास्थ्य की सूचना दें। मैं बहुत उत्सुक हूँ।’

एक दिन पत्नी ने इन कार्डों का रहस्य पूछा तो मैंने उन्हें पूरा किस्सा बताया। सुनकर वे चिन्तित और कुपित हो गयीं। बोलीं, ‘तुम हमेशा उल्टे सीधे मज़ाक करते रहते हो। मुझे यह पसन्द नहीं। किसी तरह इससे पिंड छुड़ाओ।’

मैंने कहा, ‘इससे तो मर कर ही पिंड छूट सकता है।’

मैंने समझ लिया कि शास्त्री मेरे ससुराल के सारे आनन्द को किरकिरा कर देगा। उसके हर कार्ड के साथ पत्नी की नाराज़गी बढ़ती जा रही थी। हारकर मैंने विचार किया और मुक्ति पाने के लिए उसे इस प्रकार का पत्र लिखा—

‘परम शुभचिन्तक शास्त्री जी,

आपको जानकर दुख/ सुख होगा कि मैं दिनांक 6 सितंबर को शुभ मुहूर्त में इंतकाल फरमा गया। चूँकि मैं शर्त हार गया हूँ, अतः आप पाँच सौ रुपये की रकम नन्दलाल से प्राप्त कर लें। मैं उन्हें पत्र लिख रहा हूँ। किन्तु अपने इन्तकाल की बात को मैं कुछ विशेष कारणों से फिलहाल गोपनीय रखना चाहता हूँ,अतः इसे अपने तक ही सीमित रखें। शर्त जीतने के लिए बधाई।’

इसके साथ ही मैंने सारी स्थिति को समझाते हुए नन्दलाल को भी पत्र लिखा और उसे पाँच सौ रुपये शास्त्री को देने के लिए कहा।

छठवें दिन शास्त्री का जवाब आ गया। लिखा था—

‘परम प्रिय भाई जी,

आपका कृपा पत्र प्राप्त हुआ। आपके गोलोक वासी होने की बात पढ़ कर कुछ दुख हुआ लेकिन अपनी भविष्यवाणी सच होने और पाँच सौ रुपये की रक्षा हो जाने के कारण कुछ संतोष भी हुआ। आप जानते ही हैं कि यह मेरी प्रतिष्ठा का सवाल था। आप जहाँ भी रहें सुख से रहें। आप विश्वास रखें यह बात पूर्णतया गोपनीय रखी जाएगी।

आपका शुभचिन्तक

राम अरदास शास्त्री’

उसके बाद मैं ससुराल में बाकी दिन चैन से रहा। बाद में अपने शहर पहुँचने पर मेरे भूत को देखकर शास्त्री किस तरह चौंका, यह किस्सा अलग है।

© डॉ कुंदन सिंह परिहार

जबलपुर, मध्य प्रदेश

 संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 2 – माँ सरकार चली गई ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

(डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ एक प्रसिद्ध व्यंग्यकार, बाल साहित्य लेखक, और कवि हैं। उन्होंने तेलंगाना सरकार के लिए प्राथमिक स्कूल, कॉलेज, और विश्वविद्यालय स्तर पर कुल 55 पुस्तकों को लिखने, संपादन करने, और समन्वय करने में महत्वपूर्ण कार्य किया है। उनके ऑनलाइन संपादन में आचार्य रामचंद्र शुक्ला के कामों के ऑनलाइन संस्करणों का संपादन शामिल है। व्यंग्यकार डॉ. सुरेश कुमार मिश्र ने शिक्षक की मौत पर साहित्य आजतक चैनल पर आठ लाख से अधिक पढ़े, देखे और सुने गई प्रसिद्ध व्यंग्यकार के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। तेलंगाना हिंदी अकादमी, तेलंगाना सरकार द्वारा श्रेष्ठ नवयुवा रचनाकार सम्मान, 2021 (तेलंगाना, भारत, के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के करकमलों से), व्यंग्य यात्रा रवींद्रनाथ त्यागी सोपान सम्मान (आदरणीय सूर्यबाला जी, प्रेम जनमेजय जी, प्रताप सहगल जी, कमल किशोर गोयनका जी के करकमलों से), साहित्य सृजन सम्मान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से और अन्य कई महत्वपूर्ण प्रतिष्ठात्मक सम्मान प्राप्त हुए हैं। आप प्रत्येक गुरुवार डॉ सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – चुभते तीर में उनकी अप्रतिम व्यंग्य रचनाओं को आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी विचारणीय व्यंग्य रचना माँ सरकार चली गई)  

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 2 – माँ सरकार चली गई ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

जीवन के आंगन में रखी कुर्सी पर ‘बेरोज़गार’ नामक अंकल बैठे थे। उन्हीं के पास उनके बच्चे भुखमंगालाल, लाचारीदेवी और निराशकुमार उन्हें ध्यान से सुन रहे थे। बेरोज़गार अंकल बच्चों को अपने जीवन का एक किस्सा सुना रहे थे। वे कहने लगे –

“बहुत पहले उनके घर के अड़ोस-पड़ोस में रोज़गार लोग रहते थे। वे हर महीने वेतन उठाते और खूब मौज-मस्ती करते। मुझे भी उनकी तरह रोज़गार करने की इच्छा होती। लेकिन मुझे रोज़गार करने का सौभाग्य नहीं मिला। मैं बस ललचाई आँखों से विज्ञापन देखता और छह महीने बाद रद्द हो जाने पर चुपचाप रह जाता।

फिर एक दिन मैं और तुम्हारी बुआ डिग्री ने निर्णय किया कि कल कुछ भी हो जाए माँ सरकार से रोज़गार लेकर ही रहेंगे। अगले दिन मैं उठा। लेकिन तुम्हारी बुआ डिग्री नहीं उठी। मैंने उसे डाँट-फटकारकर जैसे-तैसे उठाया। लेकिन माँ सरकार नहीं उठी। मैंने बगल के कमरे में सो रहे उम्मीद चाचा को आवाज़ देकर उठाया। लेकिन माँ सरकार नहीं उठी। मैं दौड़े-दौड़े बस स्टैंड गया। वहाँ जान-पहचान के ड्राइवर फिक़र अंकल को बहुत दूर शहर में रहने वाले संकल्प भैया को यह बताने के लिए कह दिया कि माँ सरकार नहीं उठ रही है। दौड़े-दौड़े फिर घर लौटा। पड़ोस में भ्रष्टाचार, लूटपाट, स्कैम नामक तीन ताऊ रहा करते थे। उनकी माँ सरकार से बहुत जमती थी। फिर भी उनके पास जाकर मैं खूब रोया और गिड़गिड़ाया।  उनके हाथ-पैर जोड़े। मिन्नतें कीं। घर पर चुपचाप लेटी माँ सरकार को उठाने की प्रार्थना की। आखिरकार वे तीनों घर पहुँचे। तीनों ने बारी-बारी से माँ की नब्ज़ टटोली। बड़े ताऊ भ्रष्टाचार ने मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए गंभीरता से कहा – बेटा बेरोज़गार! तेरी माँ सरकार इस दुनिया में नहीं रही।  वह हम सबको छोड़कर बहुत दूर चली गई है। अब उसे भूल जा। इतना सुनना था कि मैं और मेरी बहन छाती पीटकर रोने लगे।”

© डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

संपर्क : मोबाइलः +91 73 8657 8657, ई-मेल : [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ विवेक साहित्य # 277 ☆ व्यंग्य – जाति का नशा ☆ श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ ☆

(प्रतिष्ठित साहित्यकार श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – “विवेक साहित्य ”  में हम श्री विवेक जी की चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाने का प्रयास करते हैं। श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र जी, मुख्यअभियंता सिविल  (म प्र पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी , जबलपुर ) से सेवानिवृत्त हैं। तकनीकी पृष्ठभूमि के साथ ही उन्हें साहित्यिक अभिरुचि विरासत में मिली है। आपको वैचारिक व सामाजिक लेखन हेतु अनेक पुरस्कारो से सम्मानित किया जा चुका है।आज प्रस्तुत है आपका एक विचारणीय व्यंग्य – जाति का नशा। 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – विवेक सहित्य # 277 ☆

? व्यंग्य – जाति का नशा ?

भांग, तंबाखू, गुड़ाखू, अफीम, देशी शराब, विदेशी व्हिस्की, ड्रग्स, सब भांति भांति के नशे की दुकानें हैं। हर नशे का मूल उद्देश्य एक ही होता है, यथार्थ से परे वर्तमान को भुलाकर आनंद के एक तंद्रा लोक में पहुंचा देना।

अफीम के आनंद में कोई साधक परमात्मा से डायरेक्ट कनेक्शन खोज निकालता है। तो कोई वैज्ञानिक ड्रग्स लेकर अन्वेषण और आविष्कार कर डालता है। शराब के नशे में लेखक नई कहानी लिख लेते हैं। तंबाखू गुटका खाकर ड्राइवर लंबे सफर तय कर डालते हैं। परीक्षाओं की तैयारियां करने में

चाय काफी सिगरेट के नशे से स्टूडेंट्स को मदद मिलती है। बीड़ी के धुंए से मजदूर अपनी मजबूरी भूल मजबूती से काम कर लेते हैं। और शाम को दारू के नशे में शरीर का दर्द भूल जाते हैं।

दिमाग का केमिकल लोचा सारी शारीरिक मानसिक शक्तियों को एकाग्र कर देता है। यूं बिना किसी बाहरी ड्रग के भी यौगिक क्रियाओं से दिमाग को इस परम आनंद की अनुभूति के लिए वांछित केमिकल्स खुद उत्पादित करने की क्षमता हमारे शरीर में होती है। उसे सक्रिय करना ही साधना है। नन्हें शिशु को मां के दूध से ही वह परमानंद प्राप्त हो जाता है कि वह बेसुध लार टपकाता गहरी नींद सो लेता है। प्रेमियों को प्रेम में भी वही चरम सुख मिलता है। जहां वे दीन दुनिया से अप्रभावित अपना ही संसार रच लेते हैं।

जातियां, धर्म, क्षेत्रीयता, राष्ट्रवाद, भाषाई या राजनैतिक अथवा अन्य आधारों से ध्रुवीकरण भी किंबहुना ऐसा ही नशा उत्पन्न करते हैं कि लोग बेसुध होकर आपा खो देते हैं। जातीय अपमान की एक व्हाट्स अप अफवाह पर भी बड़े बड़े समूह मिनटों में बहक जाते हैं। इस कदर कि मरने मारने पर उतारू हो जाते हैं।

कभी समाज में विभिन्न कार्यों के सुचारू संचालन हेतु कोई कार्य विभाजन किया गया था। कालांतर में यह वर्गीकरण जातियों में बदल गया। ठीक उसी तरह जैसे आज साफ्टवेयर इंजीनियर, वकील, डाक्टर्स, आई ए एस वगैरह का हाल है, परस्पर कार्यों की समुचित समझ और स्टेट्स की समानता के चलते कितने ही विवाह इस तरह के ग्रुप में समान कार्यधर्मी से होते दिखते हैं।

जातियां बड़े काम की चीज हैं, आरक्षण की मांग हो, सरकारी योजनाओं के लाभ लेने हों, तो लामबंद जातीय समीकरण नेताओ को खींच लाते हैं, और मांगे पूरी हों न हों, आश्वासन जैसा कुछ न कुछ तो हासिल हो ही जाता है। जातीय संख्या राजनीति को आकर्षित करती है। लाम बंद जातियां नेताओ को वोट बैंक नजर आती हैं। गिव एंड टेक के रिश्ते मजबूत हो जाते हैं। समूह के हित जातियों के लिए फेविकोल सा काम करते हैं।

बेबात की बात पर जात बाहर और भात भोज से जात मिलाई, तनखैया घोषित कर देना, फतवे जारी कर देना जातीय पंचायतों की अलिखित ताकत हैं। बहरहाल हम तो कलम वाली बिरादरी के हैं और हमारा मानना है कि जाति पाति पूछे नहीं कोई, हरि को भजे सो हरि का होई।

* * * *

© विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’ 

म प्र साहित्य अकादमी से सम्मानित वरिष्ठ व्यंग्यकार

इन दिनों, क्रिसेंट, रिक्समेनवर्थ, लंदन

संपर्क – ए 233, ओल्ड मिनाल रेजीडेंसी भोपाल 462023

मोब 7000375798, ईमेल [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ परिहार जी का साहित्यिक संसार # 237 ☆ व्यंग्य – बंडू की फौजदारी ☆ डॉ कुंदन सिंह परिहार ☆

डॉ कुंदन सिंह परिहार

(वरिष्ठतम साहित्यकार आदरणीय  डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  का साहित्य विशेषकर व्यंग्य  एवं  लघुकथाएं  ई-अभिव्यक्ति  के माध्यम से काफी  पढ़ी  एवं  सराही जाती रही हैं।   हम  प्रति रविवार  उनके साप्ताहिक स्तम्भ – “परिहार जी का साहित्यिक संसार” शीर्षक  के अंतर्गत उनकी चुनिन्दा रचनाएँ आप तक पहुंचाते  रहते हैं।  डॉ कुंदन सिंह परिहार जी  की रचनाओं के पात्र  हमें हमारे आसपास ही दिख जाते हैं। कुछ पात्र तो अक्सर हमारे आसपास या गली मोहल्ले में ही नज़र आ जाते हैं।  उन पात्रों की वाक्पटुता और उनके हावभाव को डॉ परिहार जी उन्हीं की बोलचाल  की भाषा का प्रयोग करते हुए अपना साहित्यिक संसार रच डालते हैं।आज प्रस्तुत है आपका एक विचारणीय एवं अप्रतिम व्यंग्य – बंडू की फौजदारी। इस अतिसुन्दर रचना के लिए डॉ परिहार जी की लेखनी को सादर नमन।)

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – परिहार जी का साहित्यिक संसार  # 237 ☆

☆ व्यंग्य – बंडू की फौजदारी

बंडू ने फिर लफड़ा कर लिया। अपने पड़ोसी महावीर जी की फुरसत से मरम्मत करके भागा भागा फिर रहा है और महावीर जी अपने दो-तीन शुभचिंतकों को लिये, गुस्से में बौराये हुए, हिसाब चुकाने के लिए उसे ढूँढ़ते फिर रहे हैं। फिलहाल बंडू मेरे घर में छिपा बैठा है।

बंडू के साथ मुश्किल यह है कि वह बिलकुल दुनियादार नहीं है। न उसे मुखौटे पहनना आता है, न छद्म करना। जो आदमी उसे पसन्द नहीं आता उसके साथ पाँच मिनट गु़ज़ारना उसे पहाड़ लगता है। मन की बात बिना लाग-लपेट के फट से बोल देता है और सामने वाले को नाराज़ कर देता है। तिकड़म और जोड़-जुगाड़ में लगे होशियार लोगों से उसकी पटरी नहीं बैठती। इसी वजह से तकलीफ भी उठाता है, लेकिन अपनी फितरत से मजबूर है।

दूसरी तरफ उसके पड़ोसी महावीर जी नख से शिख तक दुनियादारी में रसे-बसे हैं। दफ्तर में जिस दिन ऊपरी कमाई नहीं होती उस दिन उन्हें दुनिया बेईमान और बेवफा नज़र आती है। उस दिन वे दिन भर घर में झींकते और भौंकते रहते हैं। जिस दिन जेब में वज़न आ जाता है उस दिन उन्हें दुनिया भरोसे के लायक लगती है। उस दिन वे सब के प्रति स्नेह से उफनते, गुनगुनाते घूमते रहते हैं।

कपड़े-लत्ते के मामले में महावीर जी भारी किफायत बरतते हैं। घर में ज़्यादातर वक्त कपड़े की बंडी और पट्टेदार अंडरवियर में ही रहते हैं। कमीज़ पायजामा पहनने की फिज़ूलखर्ची तभी करते हैं जब घर में कोई ‘सम्माननीय’ मेहमान आ जाता है। अगर मेहमान ‘अर्ध- सम्माननीय’ होता है तो अंडरवियर पर सिर्फ पायजामा चढ़ाकर काम चला लेते हैं, कमीज़ को दुरुपयोग से फिर भी बचा लेते हैं।

इसी किफायतसारी के तहत महावीर जी अखबार नहीं खरीदते। जब पड़ोस में बंडू के घर अखबार आता है तो उन्हें खरीदने की क्या ज़रूरत? सबेरे से अंडरवियर का नाड़ा झुलाते आ जाते हैं और कुर्सी पर पालथी मार कर अखबार लेकर बैठ जाते हैं। सबसे पहले राशिफल पढ़ते हैं। कभी खुश होकर बंडू से कहते हैं, ‘आज लाभ का योग है’, कभी मुँह लटका कर कहते हैं, ‘आज राशिफल गड़बड़ है। देखो क्या होता है।’ राशिफल के बाद बाजार के भाव पढ़ते हैं, फिर दूसरी खबरें। दुर्घटना, हत्या, अन्याय, क्रूरता, सामाजिक उथल-पुथल की खबरों को सरसरी नज़र से देख जाते हैं, फिर मुँह बिचका कर कहते हैं, ‘इन अखबार वालों की नज़र भी कौवों की तरह गन्दी चीज़ों पर ही रहती है।’

फिर नाड़ा झुलाते, गुनगुनाते वापस चले जाते हैं।

बंडू की हालत उल्टी है। वह अखबार को सुर्खियों से पढ़ना शुरू करता है। हत्या और क्रूरता की खबरें उसे विचलित कर देती हैं। नेताओं के भाषणों से उसे एलर्जी है। कहता है, ‘कहीं झूठ और पाखंड का अंतर्राष्ट्रीय मुकाबला हो तो पहले दस पुरस्कार हमसे कोई नहीं ले सकता। ग्यारहवें से ही दूसरे देशों का नंबर लग सकता है।’

बंडू दुखी होकर महावीर जी से कहता है, ‘देखिए तो, बांग्लादेश में कैसी भीषण बाढ़ आयी है। हजारों लोग खत्म हो गये। लाखों बेघर हो गये।’

महावीर जी निर्विकार भाव से कहते हैं, ‘विधि का लिखा को मेटन हारा। जिसकी जब लिखी है सो जाएगा।’

बंडू चिढ़ जाता है। कहता है, ‘इतनी बड़ी दुर्घटना हो गयी और आप उसे कुछ समझ ही नहीं रहे हैं।’

महावीर जी ‘ही ही’ करके हँसते हैं, तोंद में आन्दोलन होता है। कहते हैं, ‘अरे, आप तो ऐसे परेशान हो रहे हो जैसे बांग्लादेश की बाढ़ आपके ही घर में घुस आयी हो।’

कभी बंडू कहता है, ‘देश में बेईमानी और भ्रष्टाचार बहुत बढ़ रहा है। पता नहीं इस देश का क्या होगा।’

महावीर जी सन्त की मुद्रा में जवाब देते हैं, ‘सब अच्छा होगा। भ्रष्टाचार होने से काम जल्दी और अच्छा होता है, नहीं तो आज के जमाने में कौन दिलचस्पी लेता है। और फिर बेईमानी और भ्रष्टाचार कौन आज के हैं। हमेशा से यही होता आया है। अब हमेंइ देखो, दो पैसे ऊपर लेते हैं लेकिन काम एकदम चौकस करते हैं। मजाल है कोई शिकायत कर जाए।’

बंडू भुन्ना जाता है।

कभी बंडू चिन्ताग्रस्त होकर कहता है, ‘रोजगार की समस्या बड़ी कठिन हो रही है।’

महावीर जी हँसकर कहते हैं, ‘भैया आप बड़े भोले हो। बेरोजगारी की समस्या बेवकूफों के लिए है। अब हमें देखो। हमारे बेटों को नौकरी की क्या जरूरत? एक को दुकान खुलवा देंगे, दूसरे से ठेकेदारी करवाएँगे, तीसरे को एक दो ट्रक खरीद देंगे। चार पैसे खुद खाओ, चार ऊपर वालों को खिलाओ। खुश रहोगे। हम तो नौकरी करके पछताये। दो-तीन साल में रिटायरमेंट लेकर धंधा करेंगे और चैन से रहेंगे।’

महावीर जी अक्सर तरह-तरह के धंधों के प्रस्ताव लेकर बंडू के पास आते रहते हैं। कभी कहते हैं, ‘पाँच दस हजार की अलसी भर लो। अच्छा मुनाफा मिल जाएगा।’ कभी कहते हैं, ‘सरसों भर लो। चाँदी काटोगे।’ बंडू को इन बातों से चिढ़ होती है। गुस्सा बढ़ता है तो तीखे स्वर में कहता है, ‘आप ही यह भरने और खाली करने का धंधा कीजिए। इस मुनाफाखोरी में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है।’

बंडू के गुस्से को महावीर जी उसकी नादानी समझते हैं। वे फिर भी बंडू का ‘भला’ करने की नीयत से नये-नये प्रस्ताव लेकर आते रहते हैं। कभी कहते हैं, ‘चलो सहकारी दुकान से एक बोरा शक्कर दिलवा देते हैं। मुनाफे पर बेच लेना।’ और बंडू उन्हें दरवाजा दिखाता रहता है।

पश्चिमी सेनाओं और इराक के बीच युद्ध के समय एक दिन जब महावीर जी अखबार पढ़ने पधारे तब बंडू सिर पकड़े बैठा था। महावीर जी सहानुभूति से बोले, ‘क्या बात है भाई? तबियत खराब है क्या?’

बंडू बोला, ‘तबियत खराब नहीं है। जरा अखबार पढ़ो। अमेरिका के मिसाइल ने बंकर को तोड़कर तीन चार सौ स्त्रियों बच्चों को माँस के लोथड़ों में बदल दिया।’

महावीर जी ताली पीट कर हँसे, बोले, ‘वह खबर तो हमने रात को टीवी पर सुन ली थी। भई, हम तो अमरीका की तारीफ करते हैं कि क्या मिसाइल बनाया कि इतने मोटे कंक्रीट को तोड़कर बंकर के भीतर घुस गया। कमाल कर दिया भई।’

बंडू बोला, ‘और जो तीन चार सौ निर्दोष स्त्री बच्चे मरे सो?’

महावीर जी बाँह पर बैठे मच्छर को स्वर्गलोक भेजते हुए बोले, ‘अरे यार, लड़ाई में तो ये सब मामूली बातें हैं। लड़ाई में आदमी नहीं मरेंगे तो क्या घोड़े हाथी मरेंगे?’

फिर कहते हैं, ‘लेकिन ब्रदर, पहली बार लड़ाई का मजा आया। टीवी पर बमबारी क्या मजा देती है! बिल्कुल आतिशबाजी का आनन्द आता है।’

लड़ाई की नौबत जिस दिन आयी उसके एक दिन पहले से ही बंडू महावीर जी से जला-भुना बैठा था। एक दिन पहले वे बंडू को गर्व से बता चुके थे कि कैसे दफ्तर में एक देहाती का काम करने के लिए उन्होंने उसकी जेब का एक-एक पैसा झटक लिया था। उन्होंने गर्व से कहा था, ‘साला एक पचास रुपये का नोट दबाये ले रहा था, लेकिन अपनी नजर से पैसा बच जाए यह नामुमकिन है। साले को एकदम नंगा कर दिया।’

तब से ही बंडू का दिमाग खराब था। बार-बार महावीर जी की वह हरकत उसके दिमाग में घूमती थी और उसका माथा खौल जाता था।

दुर्भाग्य से दूसरे दिन महावीर जी फिर आ टपके। प्रसन्नता से दाँत निकाल कर बोले, ‘बंधु, मुनाफा कमाने का बढ़िया मौका है। निराश्रित लड़कों के हॉस्टल के लिए खाने की चीजें सप्लाई करने का ठेका मिल रहा है।’

बंडू गुस्से में भरा बैठा था। उसने कोई जवाब नहीं दिया।

महावीर जी अपनी धुन में बोलते रहे, ‘मैंने सब मामला ‘सेट’ कर लिया है। जैसा भी माल सप्लाई करेंगे सब चल जाएगा। थोड़ा वहाँ के अफसरों को खिलाना पड़ेगा, बाकी हमारा। चालीस पचास परसेंट तक मुनाफा हो सकता है।’

और बंडू किचकिचा कर महावीर जी पर चढ़ बैठा। महावीर जी इस अप्रत्याशित आक्रमण से घबराकर चित्त हो गये। बंडू ने उन्हें कितने लात- घूँसे मारे यह उसे खुद भी नहीं मालूम। महावीर जी का आर्तनाद सुनकर लोग दौड़े और बंडू को अलग किया। महावीर जी उस वक्त तक हाथ-पाँव हिलाने लायक भी नहीं रह गये थे।

बस तभी से बंडू मेरे घर में छिपा बैठा है और महावीर जी अपने पहलवानों के साथ उसे हिसाब चुकाने के लिए ढूँढ़ते फिर रहे हैं।

 

© डॉ कुंदन सिंह परिहार

जबलपुर, मध्य प्रदेश

 संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 1 – जूँ पुराण ☆ डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ ☆

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

परिचय 

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

जन्म विवरणः 28 जनवरी, 1981  – वाराणसी, उ.प्र.

शिक्षा :एम. ए. हिंदी (स्वर्ण पदक)  एम. ए. अंग्रेजी (स्वर्ण पदक)  एम. ए. शिक्षा  (डिस्टिंक्शन)  हिंदी शिक्षक प्रशिक्षण, आई.ए.एस.ई., हैदराबाद (स्वर्ण पदक)  स्नातकोत्तर अनुवाद डिप्लोमा (स्वर्ण पदक) केंद्रीय विश्वविद्यालय हैदराबाद  राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा (नेट) उत्तीर्ण  एडवांस डिप्लोमा इन डेस्कटॉप पब्लिशिंग कोर्स (स्वर्ण पदक) एपी कंप्यूटर इंस्टीट्यूट – मानव संसाधन विकास मंत्रालय  पोस्ट.एम.ए. अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान डिप्लोमा – कें.हिं.सं. दिल्ली (स्वर्ण पदक)  आईसीटी प्रशिक्षण, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेस, मुंबई से उत्तीर्ण (डिस्टिंक्शन)  अशोक वाजपेयी के काव्य में आधुनिकता बोध विषय पर पीएच.डी. उत्तीर्ण उस्मानिया विश्वविद्यालय हैदराबाद

प्रसिद्धीः

  • प्रसिद्ध व्यंग्यकार, बाल साहित्यकार व कवि के रूप में
  • हिंदी साहित्य का इतिहास, रामचंद्र शुक्ल की पुस्तक के प्रथम ऑनलाइन संपादक के रूप में
  • तेलंगाना सरकार की पाठशाला, महाविद्यालय तथा विश्वविद्यालय स्तर की कुल 55 पुस्तकों में बतौर लेखक, संपादक तथा समन्वयक के रूप में
  • जमैका, त्रिनिदाद, सूरीनाम, मॉरीशस और सिंगापुर के लिए हिंदी पाठ्यपुस्तकों का लेखन

प्रकाशनः    

  • तेलंगाना गांधी के.सी.आर (कवि- कविता संग्रह)
  • सरल, सुगम, संक्षिप्त व्याकरण (लेखक – व्याकरण पुस्तक)
  • एक तिनका इक्यावन आँखें (लेखक – व्यंग्य संग्रह)
  • हिंदी भाषा के विविध आयामः वैश्विक परिदृश्य (संपादन)
  • हिंदी भाषा साहित्य के विविध आयाम (संपादन)
  • हिंदी साहित्य और संस्कृति के विविध आयाम (संपादन)
  • आधुनिक हिंदी साहित्य का इतिहासः आचार्य रामचंद्र शुक्ल (ऑनलाइन संपादन)
  • सबरंग में मेरे रंग (लेखक – पंजाब केसरी में प्रकाशित व्यंग्य माला)
  • सदाबहार पांडेयजी (सुपरिचित व्यंग्यकार लालित्य ललित के व्यंग्य संग्रह – संपादन)
  • दक्षिण भारत में प्राथमिक स्तर की हिंदी पाठ्यपुस्तकों का एक गहन अध्ययन (संपादन)
  • शिक्षा के केंद्र में बच्चे (लेखन)
  • एनसीईआरटी श्राव्य आलेख (लेखन – एनसीईआरटी की ऑडियो-पुस्तक)
  • नन्हों का सृजन आसमान (लेखन – बाल साहित्य की पुस्तक)
  • म्यान एक तलवार अनेक (लेखक – व्यंग्य संग्रह)
  • इधर-उधर के बीच में (लेखक – व्यंग्य उपन्यास)

व्यंग्यकार : शिक्षक की मौत शीर्षकीय व्यंग्य से अब तक के सबसे ज्यादा पढ़े, देखे और सुने गए व्यंग्यकार के रूप में कीर्तिमान स्थापित किया है। आज तक समाचार चैनल में मात्र चार दिनों के भीतर इस व्यंग्य को पाँच लाख श्रोताओं-पाठकों का प्रेम मिला है, जो अब तक के किसी भी व्यंग्यकार से अधिक पढ़ा और सुना गया है।

देश विदेश के प्रसिद्ध समाचार पत्रों (बीबीसी, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, पंजाब केसरी, जनसत्ता, हिंदुस्तान, अमर उजाला, के साथ-साथ देश-विदेश के अनेकों समाचार पत्रो में अब तक एक हजार व्यंग्य प्रकाशित

ऑनलाइन संप्रतिः   

  • विश्व हिंदी सचिवालय (भारत और मॉरीशस सरकार के अधीन कार्य करने वाली हिंदी की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सरकारी संस्था) – http://www.vishwahindidb.com/show_scholar.aspx?id=695
  • भारतदर्शन – https://bharatdarshan.co.nz/author-profile/240/dr-suresh-kumar-mishra.html
  • साहित्य कुंज – https://m.sahityakunj.net/lekhak/suresh-kumar-mishra-urtript
  • कविताकोश – kavitakosh.org/kk/सुरेश_कुमार_मिश्रा%27उरतृप्त%27
  • गद्यकोश – gadyakosh.org/kk/सुरेश_कुमार_मिश्रा%27उरतृप्त%27
  • विकिपीडिया – https://hi.wikipedia.org/s/24vq
  • विकिपुस्तक – https://hi.wikibooks.org/wiki/हिंदी साहित्य का विधागत इतिहास/हिन्दी व्यंग्य का इतिहास
  • कविताशाला – https://kavishala.com/nayaSahitya/do-suresa-kumara-misra-uratrpta/kitabom-ki-antima-yatra

पुरस्कार व सम्मानः 

  • स्वर्ण जन्मभूमि पुरस्कार (मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायुडु) – 2002
  • राज्य स्तरीय श्रेष्ठ पाठ्यपुस्तक लेखक पुरस्कार – 2013 (आंध्र प्रदेश, भारत, मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी)
  • राज्य स्तरीय श्रेष्ठ पाठ्यपुस्तक लेखक, संपादक व समन्वयक पुरस्कार – 2014 (तेलंगाना, भारत, मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव)
  • राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार (म. ते. संगठन, भारत सरकार) – 2015
  • तेलंगाना गांधी के.सी.आर. काव्य ग्रंथ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार (केरल सरकार) – 2015
  • राष्ट्रीय दलित साहित्य पुरस्कार (केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान) – 2016
  • विश्व हिंदी अकादमी का श्रेष्ठ लेखक पुरस्कार (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से)– 2020
  • प्रभासाक्षी का राष्ट्रीय हिंदी सेवा सम्मान (पूर्व स्पीकर नज्मा हेफ्तुल्ला के करकमलों से) – 2020
  • इंडियन बेस्टीज़ अवार्ड-2021 सम्मान, (राजस्थान के परिवहन मंत्री श्री प्रताप खचारवसिया के करकमलों से) एनआरबी फाउंडेशन, जयपुर
  • हिंदी अकादमी, मुंबई द्वारा नवयुवा रचनाकार सम्मान, (महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशयारी के करकमलों से) 2021
  • तेलंगाना हिंदी अकादमी, तेलंगाना सरकार द्वारा श्रेष्ठ नवयुवा रचनाकार सम्मान, 2021 (तेलंगाना, भारत, के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के करकमलों से)
  • व्यंग्य यात्रा रवींद्रनाथ त्यागी सोपान सम्मान, 2021 – (आदरणीय सूर्यबाला जी, प्रेम जनमेजय जी, प्रताप सहगल जी, कमल किशोर गोयनका जी के करकमलों से)
  • साहित्य सृजन सम्मान-2020 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करकमलों से

ई-अभिव्यक्ति में डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी का स्वागत। आज से आप प्रत्येक गुरुवार डॉ सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’ जी के साप्ताहिक स्तम्भ – चुभते तीर में उनकी अप्रतिम व्यंग्य रचनाओं को आत्मसात कर सकेंगे। इस कड़ी में आज प्रस्तुत है आपकी प्रथम व्यंग्य रचना जूँ पुराण)  

☆ साप्ताहिक स्तम्भ ☆ चुभते तीर # 1 – जूँ पुराणडॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

जूँ पुराण आरंभ करने से पहले दुनिया के समस्त जुँओं को मैं प्रणाम करता हूँ। मुझे नहीं लगता कि लेख समाप्त होने-होने तक वे मुझे बख्शेंगे। आज मैं उनसे जुड़े कई रहस्य की परतें खोलने वाला हूँ। जैसा कि सभी जानते हैं कि हम सब समाज पर निर्भर प्राणी हैं। हम जितना दुनिया के संसाधनों का हरण करते हैं, शायद ही कोई करता हो। किंतु इस मामले में जुँओं की दाद देनी पड़ेगी। वे हमसे भी ज्यादा पराश्रित हैं। जिस तरह हमारे लिए हमारा सिर महत्वपूर्ण होता है, ठीक उसी तरह हमारा सिर जुँओं के लिए जरूरी होता है। वे हमेशा हमारे साथ रहते हैं। हमारा साथ नहीं छोड़ते। सोते-जागते, खाते-पीते, उठते-बैठते, खेलते-कूदते, पढ़ते-लिखते, सिनेमा देखते चाहे जहाँ चले जाएँ हम, वे हमें बख्शने वाले नहीं हैं। जुँओं को हमारे वैध-अवैध संबंध, शराब-सिगरेट की लत, पसंद-नापसंद जैसी सारी बातें पता होती हैं। यदि उन्हें खुफिया एजेंसी में नौकरी मिल जाए तो कइयों की जिंदगी पल में तबाह कर सकते हैं। इसीलिए ‘ये दोस्ती हम नहीं तोडेंगे, तोडेंगे दम मगर तेरा साथ न छोड़ेंगे’ की तर्ज पर हमारे साथ चिपके रहते हैं। वे इतने बेशर्म, बेहया, बेगैरत होते हैं कि हम उन्हें जितना भगाने की कोशिश करेंगे वे उतना ही हमसे चिपके रहने का प्रयास करेंगे। बड़े ही ‘चिपकू’ किस्म के होते हैं।

जूँ बड़े आदर्शवान होते हैं। उनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता है। वे बड़े मेहनती होते हैं। वे हमारी तरह ईर्ष्यालु अथवा झगड़ालु नहीं होते। वे अत्यंत मिलनसार तथा भाई-चारा का संदेश देने वाले महान प्राणी होते हैं। इस सृष्टि की रचना के आरंभ से उनका और हमारा साथ फेविक्विक से भी ज्यादा मजबूत है। वे जिनके भी सिर को अपना आशियाना बना लेते हैं, उसे मंदिर की तरह पूजते हैं। ‘तुम ही मेरे मंदिर, तुम ही मेरी पूजा, तुम ही देवता हो’ की तर्ज पर हमारी खोपड़ी की पूजा तन-मन से करते हैं। जुँएँ बाहुबली की तरह शक्तिशाली होते हैं। उनकी पकड़ अद्वितीय है। उनकी चाल-ढाल और गतिशीलता बिजली की भांति तेज होती है। हम तो उनके सामने फेल हैं। पलक झपकते ही सिर में ऐसे गायब हो जाते हैं जैसे उनके पंख लगे हों। वे बड़े संघर्षशील तथा अस्तित्वप्रिय होते हैं। वे हमारी तरह डरपोक नहीं होते। बड़ी-बड़ी मुसीबतों का सामना हँसते-हँसते करते हैं। वे धूप, बरसात, आंधी, बाढ़ सबका सामना ‘खड़ा हिमालय बता रहा है, डरो न आंधी पानी में, खड़े रहो तुम अविचल होकर, सब संकट तूफानी में’ की तर्ज पर करते हैं। किसी की मजाल जो उन्हें भगा दें। जब तक उनके बारे में खोपड़ी वाले को पता न चले, तब तक वे बाहर नहीं निकलते। बेचारे अपने सभी काम उस छोटी सी खोपड़ी पर करते हैं। कभी जगह की कमी की शिकायत नहीं करते। जो मिला उसे भगवान की देन मानकर उसी में अपना सब कुछ लगा देते हैं। स्थान और समय प्रबंधन के महागुरु हैं। हमारे नहाने के साथ वे नहा लेते हैं। त्यौहार का दिन हो तो उनका जीना मुश्किल हो जाता है। उस दिन शैंपू, हेयर क्लीनर के नाम पर न जाने कितने रासायनिक पदार्थों का सामना करते हैं। फिर भी जुँएँ संघर्ष का परचम फहराने से नहीं चूकते। ये सब तो उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं है। उनकी शामत तो सिर पर तौलिया रगड़ने से आती है। जैसे-तैसे प्राण बचाने में सफल हो जाते हैं। हेयर ड्रायर की जोरदार गर्म हवा से इनके शरीर का तापमान गरमा जाता है और अपनों से बिछुड़ जाते हैं। फिर भी अपने आत्मविश्वास में रत्ती भर का फर्क नहीं आने देते। आए दिन उन पर खुजलाने के नाम पर, कंघी के नाम पर हमले होते ही रहते हैं। सबका डटकर सामना करते हैं। यदि वे हमारे हत्थे चढ़ भी जाते हैं, तो नाखूनों की वेदी पर हँसते-हँसते ‘कर चले हम फिदा जानो-ओ-तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले ये ‘सिर’ साथियों’ की तर्ज पर प्राण त्याग देते हैं।

वैसे जुँओं से नुकसान ही क्या है? केवल खुजली ही तो पैदा करते हैं। इस एक अपराध को छोड़ दें तो वे बड़े भोले-भाले होते हैं। वे इतने शांतप्रिय होते हैं कि उनके होने का आभास भी नहीं होता। उनके इसी गुण के कारण ‘कान पर जूँ न रेंगना’ मुहावरे की उत्पत्ति हुई है। वे हमारा थोड़ा-सा खून ही तो पीते हैं। भ्रष्टाचार, धांधली, धोखाधड़ी, लूटखोरी, कालाबाजारी के नाम पर चूसे जाने वाले खून की तुलना में यह बहुत कम है। जुँएँ अपने स्वास्थ्य व रूप से बड़े आकर्षक होते हैं। हम खाने को तो बहुत कुछ खा लेते हैं और तोंद निकलने पर व्यायाम करने से कतराते हैं। इस मामले में जुँएँ बड़े चुस्त-दुरुस्त और स्लिम होते हैं। वास्कोडिगामा ने भारत की खोज क्या कर दी उसकी तारीफ के पुल बाँधते हम नहीं थकते। जबकि जुँएँ एक सिर से दूसरे सिर, दूसरे सिर से तीसरे और न जाने कितने सिरों की खोज कर लेते हैं। वे वास्कोडिगामा जैसे यात्रियों को यूँ मात देते दिखायी देते हैं। वे तो ऐसे उड़न छू हो जाते हैं जैसे सरकार ने गब्बर पर नहीं इन पर इनाम रखा हो।

सरकार नौकरी दे या न दे, किंतु जुँएँ कइयों को रोजगार देते हैं। इन्हें मारने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियाँ टी.वी., समाचार पत्रों, सामाजिक माध्यमों में आए दिन प्रचार-प्रसार करते रहते हैं। इनके नाम पर करोड़ों-अरबों रुपयों का तेल, शैंपू, साबून, रासायनिक पदार्थ, हेयर ड्रायर लुभावने ढंग से बेचे जाते हैं। यदि उनकी उपस्थिति न हो तो कई कंपनियाँ रातोंरात बंद हो जाएँगी, सेंसेक्स मुँह के बल गिर जाएगा और हम नौकरी गंवाकर बीवी-बच्चों के साथ दर-दर की ठोकर खाते नजर आएँगे। उनकी बदौलत कई परिवार रोटी, कपड़ा और मकान का इंतजाम कर पाते हैं। इसलिए हमें उनके प्रति कृतज्ञ रहना चाहिए।

हमने अपने अस्तित्व के लिए पर्यावरण की हत्या की। आज भी बदस्तूर जारी है। असंख्य प्राणियों की विलुप्तता का कारण बने। हमारे जैसा स्वार्थी प्राणी शायद ही दुनिया में कोई हो। इतना होने पर भी सृष्टि के आरंभ से लेकर अब तक जुँएँ ‘अभी मैं जिंदा हूँ’ की तर्ज पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफल हुए हैं। उनकी संघर्ष भावना के सामने नतमस्तक हुए बिना नहीं रह सकते। कई बातों में वे हमसे श्रेष्ठ हैं। वे बड़े निस्वार्थ तथा अपनी कौम के लिए हँसते-हँसते जान गंवाने के लिए तैयार रहते हैं। वे हमारी तरह जात-पात, लिंग, धर्म, भाषा के नाम पर बिल्कुल नहीं लड़ते। उनके लिए ‘जूँ’ बने रहना बड़े गर्व की बात होती है और एक हम हैं जो इंसान छोड़कर सब बनने के लिए लड़ते-झगड़ते रहते हैं। उनके गुणों की प्रशंसा की जाए तो कागज और स्याही की कमी पड़ जाएगी। इसलिए उनसे बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता है। विशेषकर उनके ‘जूँ’ बने रहने की तर्ज पर हमारा ‘इंसान’ बने रहने की सीख।जूँ पुराण आरंभ करने से पहले दुनिया के समस्त जुँओं को मैं प्रणाम करता हूँ। मुझे नहीं लगता कि लेख समाप्त होने-होने तक वे मुझे बख्शेंगे। आज मैं उनसे जुड़े कई रहस्य की परतें खोलने वाला हूँ। जैसा कि सभी जानते हैं कि हम सब समाज पर निर्भर प्राणी हैं। हम जितना दुनिया के संसाधनों का हरण करते हैं, शायद ही कोई करता हो। किंतु इस मामले में जुँओं की दाद देनी पड़ेगी। वे हमसे भी ज्यादा पराश्रित हैं। जिस तरह हमारे लिए हमारा सिर महत्वपूर्ण होता है, ठीक उसी तरह हमारा सिर जुँओं के लिए जरूरी होता है। वे हमेशा हमारे साथ रहते हैं। हमारा साथ नहीं छोड़ते। सोते-जागते, खाते-पीते, उठते-बैठते, खेलते-कूदते, पढ़ते-लिखते, सिनेमा देखते चाहे जहाँ चले जाएँ हम, वे हमें बख्शने वाले नहीं हैं। जुँओं को हमारे वैध-अवैध संबंध, शराब-सिगरेट की लत, पसंद-नापसंद जैसी सारी बातें पता होती हैं। यदि उन्हें खुफिया एजेंसी में नौकरी मिल जाए तो कइयों की जिंदगी पल में तबाह कर सकते हैं। इसीलिए ‘ये दोस्ती हम नहीं तोडेंगे, तोडेंगे दम मगर तेरा साथ न छोड़ेंगे’ की तर्ज पर हमारे साथ चिपके रहते हैं। वे इतने बेशर्म, बेहया, बेगैरत होते हैं कि हम उन्हें जितना भगाने की कोशिश करेंगे वे उतना ही हमसे चिपके रहने का प्रयास करेंगे। बड़े ही ‘चिपकू’ किस्म के होते हैं।

जूँ बड़े आदर्शवान होते हैं। उनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता है। वे बड़े मेहनती होते हैं। वे हमारी तरह ईर्ष्यालु अथवा झगड़ालु नहीं होते। वे अत्यंत मिलनसार तथा भाई-चारा का संदेश देने वाले महान प्राणी होते हैं। इस सृष्टि की रचना के आरंभ से उनका और हमारा साथ फेविक्विक से भी ज्यादा मजबूत है। वे जिनके भी सिर को अपना आशियाना बना लेते हैं, उसे मंदिर की तरह पूजते हैं। ‘तुम ही मेरे मंदिर, तुम ही मेरी पूजा, तुम ही देवता हो’ की तर्ज पर हमारी खोपड़ी की पूजा तन-मन से करते हैं। जुँएँ बाहुबली की तरह शक्तिशाली होते हैं। उनकी पकड़ अद्वितीय है। उनकी चाल-ढाल और गतिशीलता बिजली की भांति तेज होती है। हम तो उनके सामने फेल हैं। पलक झपकते ही सिर में ऐसे गायब हो जाते हैं जैसे उनके पंख लगे हों। वे बड़े संघर्षशील तथा अस्तित्वप्रिय होते हैं। वे हमारी तरह डरपोक नहीं होते। बड़ी-बड़ी मुसीबतों का सामना हँसते-हँसते करते हैं। वे धूप, बरसात, आंधी, बाढ़ सबका सामना ‘खड़ा हिमालय बता रहा है, डरो न आंधी पानी में, खड़े रहो तुम अविचल होकर, सब संकट तूफानी में’ की तर्ज पर करते हैं। किसी की मजाल जो उन्हें भगा दें। जब तक उनके बारे में खोपड़ी वाले को पता न चले, तब तक वे बाहर नहीं निकलते। बेचारे अपने सभी काम उस छोटी सी खोपड़ी पर करते हैं। कभी जगह की कमी की शिकायत नहीं करते। जो मिला उसे भगवान की देन मानकर उसी में अपना सब कुछ लगा देते हैं। स्थान और समय प्रबंधन के महागुरु हैं। हमारे नहाने के साथ वे नहा लेते हैं। त्यौहार का दिन हो तो उनका जीना मुश्किल हो जाता है। उस दिन शैंपू, हेयर क्लीनर के नाम पर न जाने कितने रासायनिक पदार्थों का सामना करते हैं। फिर भी जुँएँ संघर्ष का परचम फहराने से नहीं चूकते। ये सब तो उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं है। उनकी शामत तो सिर पर तौलिया रगड़ने से आती है। जैसे-तैसे प्राण बचाने में सफल हो जाते हैं। हेयर ड्रायर की जोरदार गर्म हवा से इनके शरीर का तापमान गरमा जाता है और अपनों से बिछुड़ जाते हैं। फिर भी अपने आत्मविश्वास में रत्ती भर का फर्क नहीं आने देते। आए दिन उन पर खुजलाने के नाम पर, कंघी के नाम पर हमले होते ही रहते हैं। सबका डटकर सामना करते हैं। यदि वे हमारे हत्थे चढ़ भी जाते हैं, तो नाखूनों की वेदी पर हँसते-हँसते ‘कर चले हम फिदा जानो-ओ-तन साथियों, अब तुम्हारे हवाले ये ‘सिर’ साथियों’ की तर्ज पर प्राण त्याग देते हैं।

वैसे जुँओं से नुकसान ही क्या है? केवल खुजली ही तो पैदा करते हैं। इस एक अपराध को छोड़ दें तो वे बड़े भोले-भाले होते हैं। वे इतने शांतप्रिय होते हैं कि उनके होने का आभास भी नहीं होता। उनके इसी गुण के कारण ‘कान पर जूँ न रेंगना’ मुहावरे की उत्पत्ति हुई है। वे हमारा थोड़ा-सा खून ही तो पीते हैं। भ्रष्टाचार, धांधली, धोखाधड़ी, लूटखोरी, कालाबाजारी के नाम पर चूसे जाने वाले खून की तुलना में यह बहुत कम है। जुँएँ अपने स्वास्थ्य व रूप से बड़े आकर्षक होते हैं। हम खाने को तो बहुत कुछ खा लेते हैं और तोंद निकलने पर व्यायाम करने से कतराते हैं। इस मामले में जुँएँ बड़े चुस्त-दुरुस्त और स्लिम होते हैं। वास्कोडिगामा ने भारत की खोज क्या कर दी उसकी तारीफ के पुल बाँधते हम नहीं थकते। जबकि जुँएँ एक सिर से दूसरे सिर, दूसरे सिर से तीसरे और न जाने कितने सिरों की खोज कर लेते हैं। वे वास्कोडिगामा जैसे यात्रियों को यूँ मात देते दिखायी देते हैं। वे तो ऐसे उड़न छू हो जाते हैं जैसे सरकार ने गब्बर पर नहीं इन पर इनाम रखा हो।

सरकार नौकरी दे या न दे, किंतु जुँएँ कइयों को रोजगार देते हैं। इन्हें मारने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियाँ टी.वी., समाचार पत्रों, सामाजिक माध्यमों में आए दिन प्रचार-प्रसार करते रहते हैं। इनके नाम पर करोड़ों-अरबों रुपयों का तेल, शैंपू, साबून, रासायनिक पदार्थ, हेयर ड्रायर लुभावने ढंग से बेचे जाते हैं। यदि उनकी उपस्थिति न हो तो कई कंपनियाँ रातोंरात बंद हो जाएँगी, सेंसेक्स मुँह के बल गिर जाएगा और हम नौकरी गंवाकर बीवी-बच्चों के साथ दर-दर की ठोकर खाते नजर आएँगे। उनकी बदौलत कई परिवार रोटी, कपड़ा और मकान का इंतजाम कर पाते हैं। इसलिए हमें उनके प्रति कृतज्ञ रहना चाहिए।

हमने अपने अस्तित्व के लिए पर्यावरण की हत्या की। आज भी बदस्तूर जारी है। असंख्य प्राणियों की विलुप्तता का कारण बने। हमारे जैसा स्वार्थी प्राणी शायद ही दुनिया में कोई हो। इतना होने पर भी सृष्टि के आरंभ से लेकर अब तक जुँएँ ‘अभी मैं जिंदा हूँ’ की तर्ज पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफल हुए हैं। उनकी संघर्ष भावना के सामने नतमस्तक हुए बिना नहीं रह सकते। कई बातों में वे हमसे श्रेष्ठ हैं। वे बड़े निस्वार्थ तथा अपनी कौम के लिए हँसते-हँसते जान गंवाने के लिए तैयार रहते हैं। वे हमारी तरह जात-पात, लिंग, धर्म, भाषा के नाम पर बिल्कुल नहीं लड़ते। उनके लिए ‘जूँ’ बने रहना बड़े गर्व की बात होती है और एक हम हैं जो इंसान छोड़कर सब बनने के लिए लड़ते-झगड़ते रहते हैं। उनके गुणों की प्रशंसा की जाए तो कागज और स्याही की कमी पड़ जाएगी। इसलिए उनसे बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता है। विशेषकर उनके ‘जूँ’ बने रहने की तर्ज पर हमारा ‘इंसान’ बने रहने की सीख।

© डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’

संपर्क : मोबाइलः +91 73 8657 8657, ई-मेल : [email protected]

≈ संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य ☆ शेष कुशल # 39 ☆ व्यंग्य – “जलते अनारों के बीच परिणय पथ पर गुजरते हुए…” ☆ श्री शांतिलाल जैन ☆

श्री शांतिलाल जैन

(आदरणीय अग्रज एवं वरिष्ठ व्यंग्यकार श्री शांतिलाल जैन जी विगत दो  दशक से भी अधिक समय से व्यंग्य विधा के सशक्त हस्ताक्षर हैं। आपकी पुस्तक  ‘न जाना इस देश’ को साहित्य अकादमी के राजेंद्र अनुरागी पुरस्कार से नवाजा गया है। इसके अतिरिक्त आप कई ख्यातिनाम पुरस्कारों से अलंकृत किए गए हैं। इनमें हरिकृष्ण तेलंग स्मृति सम्मान एवं डॉ ज्ञान चतुर्वेदी पुरस्कार प्रमुख हैं। श्री शांतिलाल जैन जी  के  स्थायी स्तम्भ – शेष कुशल  में आज प्रस्तुत है उनका एक विचारणीय व्यंग्य  जलते अनारों के बीच परिणय पथ पर गुजरते हुए…”।) 

☆ शेष कुशल # 39 ☆

☆ व्यंग्य – “जलते अनारों के बीच परिणय पथ पर गुजरते हुए…” – शांतिलाल जैन 

“परिणयाकांक्षी युगल की मंच पर एंट्री रुकी हुई है. कारण, कि गफूरमियाँ कहीं चले गए हैं.” – मैंने दादू को बताया.

अनार में आग तो वही लगाएँगे. अनार जले तो वर-वधू आगे चलें.  स्टेज की दिशा में प्रशस्त, कालीन बिछे, परिणय पथ पर कोरिओग्राफ्ड तरीके से आगे बढ़ने के लिए युगल तैयार खड़ा है. दुल्हे ने ज़रदोज़ी के कामवाली शेरवानी पहनी है तो दुल्हन ने पेस्टल लहंगा. कलरफुल स्मोक उगलने वाली मटकियाँ दोनों किनारों पर लगी हैं. अनार फिट कर दिए गए हैं. ‘दिन शगना दा चढेया,  आओ सखियो..’   एंट्री सोंग बज रहा है. फोटोग्राफर, वीडिओग्राफर बार बार कैमरे के लेंस और एंगल सेट कर रहे हैं. छत से गुलाब की पंखुरियों को वैसे ही बरसाया जाना है जैसा आपने धार्मिक टीवी सीरियलों में देवताओं को आकाश से बरसाते हुए देखा होगा. नभ में विचरण करनेवाली परियों की ट्रू-कापियाँ वर-वधू के साथ-साथ पंखा झलते हुए चलेंगी. इन पंखों से हवा कितनी आएगी पता नहीं. आएगी भी कि नहीं कह नहीं सकते. मगर, फूटते बेलून और उड़ते गुब्बारों के बीच जब चलेंगे संग-संग मोहल्ले के अनंत अम्बानी – राधिका चौपड़ा तो उधर के आड़ी का बॉलीवुड बगलें झाँकने लगेगा. सेल्युलाईड के दृश्यों में परीकथा का तड़का लगाकार ब्राईडल एंट्री का यूनिक सीन क्रिएट किया हुआ है. देरी इसलिए हो रही है कि अनार जलानेवाले गफूरमियाँ एन वक्त पर कहीं चले गए हैं. अब अनार जले तो वर-वधू आगे चलें.  

इस बीच दादू अधीर हो रहा था, जल्दी निकलना चाहता था. मंच के बाईं तरफ बड़ी संख्या में और भी मेहमान लिफ़ाफ़े लिए प्रतीक्षारत थे. अपना लिफाफा मुझे थमाते हुए दादू बोला – ‘शांतिबाबू मेरी तरफ से भी तुम ही सिंचित कर देना.’

‘सिंचित नहीं दादू अभिसिंचित.’

‘अभी सिंचित, बाद में सिंचित, कभी भी सिंचित करना यार, मगर करना जरूर. असिंचित ना रह जाए. जिझौतिया परिवार में लिफाफा फाड़ संध्या में रजिस्टर में नाम इसी से लिखा जाएगा. पता लगा कि हमने तो कर दिया मगर सिंचन उत्तरापेक्षी तक पहुँचा ही नहीं.’

‘दादू, पत्रिका में आशीर्वाद से अभिसिंचित करने का लिखा है.’

‘लिखना तो ऐसा ही पड़ता है. वैसे गौरीशंकरजी से पूछ लो अनार ही छोड़ना है तो हम भी छोड़ सकते हैं, दीवाली पे हाथ में पकड़े-पकड़े छोड़ लेते हैं.’

‘काहे इवेंटवालों के पेट पर लात मारना दादू, इनकी दुकानदारी है. कभी विंटेज कार में तो कभी गोल्फ-कार्ट में, कभी बजाज स्कूटर पर तो कभी डांसिंग दुल्हन के सर पर खटिया, फूलों से सजी, उठाए चार युवा. वो तो गार्डन अन्दर अलग से नाम रखने की परम्परा नहीं है सिरिमान वरना इस राह का नाम लैला-मजनूँ मार्ग होता. जो भी हो हर बार कौतुक कोई नया होना. कोल्ड स्टोरेजवाले अग्रवालजी तो और ग्रेट निकले. उनका राजकुमार शादी में खास तौर पर सजाए गए साईकिल रिक्शे में दुल्हनियाँ को बैठाकर रिक्शा चलाता हुआ मंच तक पहुँचा. अग्रवाल परिवार की बहू बनने को है, एक बार भाव तो करा ही होगा – स्टेज तक जाने का क्या लोगे? दूल्हे ने भी कहा ही होगा – उधर से लौटते में खाली आना पड़ता है, सवारी नी मिलती. बहरहाल, पारिजनों ने चलते रिक्शे पर क्विंटल भर फूलों की बारिश की. जो बात पंडितजी सात वचन में नहीं समझा पाते हैं इवेंटवालों ने बिना कहे ही समझा दी, बेटा इसी तरह खर्चा करते रहे तो एक दिन सच में साईकिल रिक्शा चलाकर पेट पालना पड़ेगा.

कल की कल से देखी जाएगी शांतिबाबू, आज तो एन्जॉय द ग्रैंड मैरिज ऑफ़ जिझौतिया’ज. दादू बोला – ‘इन्हीं पलों के लिए तो गौरीशंकरजी ने प्रोविडेंट फण्ड खाली कर डाला है, पर्सनल लोन लिया है सो अलग.’ लोकल अम्बानीज के पास ग्लोबल अम्बानीज जितने संसाधन भले न हों, खुशियाँ मनाने का जज्बा है यही क्या कम है!!

लो आ गए गफूरमियाँ. लाइट्स कैमरा एक्शन में जलते अनारों के बीच परिणय पथ पर गुजरते हुए…

-x-x-x-

© शांतिलाल जैन 

बी-8/12, महानंदा नगर, उज्जैन (म.प्र.) – 456010

9425019837 (M)

 संपादक – श्री हेमन्त बावनकर/सम्पादक मंडल (हिन्दी) – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव ‘विनम्र’/श्री जय प्रकाश पाण्डेय  ≈

Please share your Post !

Shares
image_print