डॉ कुन्दन सिंह परिहार

अमर होने की तमन्ना

(कल के अंक में आपने   डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  के व्यंग्य संकलन “एक रोमांटिक की त्रासदी” की श्री अभिमन्यु जैन जी द्वारा लिखित समीक्षा पढ़ी।  आज हम आपके लिए इसी व्यंग्य संकलन से एक चुनिन्दा व्यंग्य “अमर होने की तमन्ना” लेकर आए हैं।
इस सार्थक व्यंग्य से आप व्यंग्य संकलन की अन्य व्यंग्य रचनाओं की कल्पना कर सकते हैं। साथ ही यह भी स्वाकलन कर सकते हैं कि – अमर होने की तमन्ना में आप अपने आप को कहाँ पाते हैं? यह तो तय है कि इस व्यंग्य को पढ़ कर कई लोगों के ज्ञान चक्षु जरूर खुल जाएंगे।)
प्रकृति ने तो किसी को अमर बनाया नहीं। सब का एक दिन मुअय्यन है। समझदार लोग इसे प्रकृति का नियम मानकर स्वीकार कर लेते हैं। लेकिन फिर भी कुछ लोग अमरत्व पाने के लिए हाथ-पाँव मारते रहते हैं। प्रकृति पर वश नहीं चलता तो अपने नाम से स्कूल, अस्पताल, धर्मशाला, मंदिर बनवा देते हैं, क्योंकि इमारत का जीवन आदमी के जीवन से लंबा होता है।  बहुत से लोग मंदिर की सीढ़ियों पर अपने नाम का पत्थर लगवा देते हैं। इसमें विनम्रता के साथ अमरत्व की लालसा भी होती है।
शाहजहां ने अपनी बेगम को अमर बनाने के लिए करोड़ों की लागत का ताजमहल बनवाया। मुमताज की ज़िंदगी में तो कुछ याद रखने लायक था नहीं, अलबत्ता ताजमहल उसकी याद को ज़िंदा रखे है। लेकिन यह अमरता का बड़ा मंहगा नुस्खा है,खास तौर से तब जब ग़रीब जनता का पैसा शासक को अमर बनाने के लिए लगाया जाए। ऐसी अमरता से भी क्या फायदा जहाँ आदमी अपने काम के बूते नहीं, कब्र की भव्यता के बूते अमर रहे?
समय भी बड़ा ज़ालिम होता है। वह बहुत से लोगों की अमरत्व की लालसा की हत्या कर देता है। धन्नामल जी बड़ी हसरत से अपने नाम से अस्पताल खुलवाते हैं, और लोग कुछ दिन बाद उसे डी.एम.अस्पताल कहना शुरू कर देते हैं। धन्नामल जी डी.एम.के पीछे ग़ायब हो जाते हैं।और अगर धन्नामल जी का पूरा नाम सलामत भी रहा,तो कुछ दिनों बाद लोगों को पता नहीं रहता कि ये कौन से धन्नामल थे—– नौबतपुर वाले, या ढोलगंज वाले?
जो लोग सिर्फ परोपकार और परसेवा के लिए स्कूल, अस्पताल या धर्मशाला बनवाते हैं, वे प्रशंसा के पात्र हैं। उनके लिए कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनका नाम रहे या भुला दिया जाए। लेकिन जो लोग खालिस अमरत्व और वाहवाही के लिए इमारतें खड़ी करते हैं वे अक्सर गच्चा खा जाते हैं। ऐसे लोग ईंट-पत्थर की इमारत में तो लाखों खर्च कर देते हैं, लेकिन आदमी की सीधी मदद करने के मामले में खुद पत्थर साबित होते हैं। बहुत से लोग चींटियों को तो शकर खिलाते हैं, लेकिन आदमी को गन्ने की तरह पेरते हैं।
मंदिर मस्जिद बनवाने के पीछे शायद अमरता प्राप्त करने के साथ साथ ख़ुदा को धोखा देने की भावना भी रहती हो। सोचते हों कि मंदिर बनवाने से सब गुनाह माफ हो जाएंगे और स्वर्ग में पनाह मिल जाएगी। इसीलिए बहुत सा दो नंबर का पैसा मंदिरों अस्पतालों में लगता है। लेकिन ख़ुदा इतना भोला होगा, इस पर यकीन नहीं होता।
हमारे देश में अमर होने का एक और नुस्खा चलता है—–कुलदीपक पैदा करने का। लोग समझते हैं कि पुत्र पैदा करने से उनका वंश चलेगा।इसमें पहला सवाल तो यह उठता है कि श्री खसोटनलाल का वंश चले ही क्यों? वे कोई तात्या टोपे हैं जो उनका वंश चलना ज़रूरी है? जो सचमुच बड़े होते हैं वे अपना वंश चलाने की फिक्र नहीं करते। गांधी के वंश का आज कितने लोगों को पता है? अलबत्ता जिन्होंने ज़िंदगी भर सोने, खाने और धन बटोरने के सिवा कुछ नहीं किया, वे अपना यशस्वी वंश चलाने के बड़े इच्छुक होते हैं।
दूसरी बात यह है कि कुलदीपक अक्सर वंश चलाने के बजाय उसे डुबा देते हैं। बाप के जतन से जोड़े धन को वे दोनों हाथों से बराबर करते हैं और पिताश्री के सामने ही उनके वंश का श्राद्ध कर देते हैं। लोग पूछते हैं, ‘ये किस कुल के चिराग हैं जो पूरे मुहल्ले को फूँक रहे हैं?’ और पिताजी अपनी वंशावली बताने के बजाय कोई अँधेरा कोना ढूँढ़ने लगते हैं।
कुछ लोग वंश को पीछे से पकड़ते हैं। संयोग से किसी महापुरुष के वंशज हो गये।अपने पास उस पूर्वज की याद दिलाने वाले कोई गुण बचे नहीं, लेकिन ‘विशिष्ट’ बने रहने की इच्छा पीछा नहीं छोड़ती। दिन भर दस साहबों को सलाम करते हैं, दस जगह रीढ़ को ख़म देते हैं, लेकिन यह बखान करते नहीं थकते कि वे अमुक वीर की वंशबेल के फूलपत्र हैं।
समझदार लोग अमरता के प्रलोभन में नहीं पड़ते।वक्त के इस प्रवाह में बहुत आये और बहुत गये। जो अपनी समझ में अपने अमर होने का पुख्ता इंतज़ाम कर गये थे उनका नाम हवा में गुम हो गया। बहुत से लोगों को उनकी पुण्यतिथि पर काँख-कूँख कर याद कर लिया जाता है, और फिर उसके बाद उनकी फोटो को एक साल के लिए टांड पर फेंंक दिया जाता है। अगली पुण्यतिथि पर फिर फोटो की धूल झाड़कर श्रद्धांजलि की रस्म भुगती जाती है।ऐसी अमरता से तो विस्मृत हो जाना ही अच्छा।
इसलिए बंडू भाई, अमर होने की इच्छा छोड़ो। मामूली आदमी बने रहो,जितना बने दूसरों का कल्याण करो, और जब मरो तो इस इच्छा के साथ मरो कि दुनिया हमारे बाद और बेहतर हो। बहुत से लोग हैं जो बिना शोरगुल किये दुनिया का भला करते हैं और चुपचाप ही दुनिया से अलग हो जाते हैं।ऐसे लोग ही दुनिया के लिए ज़रूरी हैं।
© कुन्दन सिंह परिहार
जबलपुर (म. प्र.)

(लेखक के व्यंग्य-संग्रह ‘एक रोमांटिक की त्रासदी’ से)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *