e-abhivyakti के मित्र संस्थान डायनामिक संवाद tv में आप सभी का स्वागत है।

जबलपुर की युवा पीढ़ी के संभावना शील साहित्यकार पत्रकार डॉ हर्ष कुमार तिवारी ने प्रख्यात कथाकार ‘पहल’ के संपादक ज्ञानरंजन जी,  प्रख्यात साहित्यकार डॉक्टर सुमित्र, महाकवि आचार्य भगवत दुबे, कथाकार राजेंद्र दानी,  चिंतक शरद चंद्र उपाध्याय, शब्द साधक समन्वयक श्री हेमन्त बावनकर के मार्गदर्शन में साहित्य, कला, संस्कृति, राजनीति के संवर्धन उन्नयन नव प्रतिभाओं को प्रेरणा और वरिष्ठ जनों को सम्मान की दृष्टि से एवं जल संरक्षण के संदर्भ में पानी की कहानी को लेकर डायनेमिक संवाद टीवी प्रारंभ किया है।  गत दिवस चैनल का प्रारंभ प्रख्यात साहित्यकार कथाकार श्री ज्ञानरंजन जी की उपस्थिति में संपन्न हुआ।  हम कहते आए हैं कोशिश हमारी, यहीं तोडेंगे मौन को और जारी रखेंगे संवाद।

डॉ. हर्ष कुमार तिवारी

 

इस लिंक के माध्यम से हम समय समय पर डायनामिक संवाद tv  के महत्वपूर्ण साहित्यिक कार्यक्रमों के यूट्यूब लिंक उपलब्ध कराने का प्रयास करेंगे।

 

अब तक के महत्वपूर्ण लिंक

  1. डायनामिक संवाद टीवी को सब्सक्राइब करें Subscribe to Dynamic Samvad TV
  2. डायनामिक संवाद टीवी का शुभारंभ – डायनामिक संवाद टीवी के डायरेक्टर डॉ. हर्ष कुमार तिवारी  Intro Video of Dynamic Samvad
  3. डायनामिक संवाद टीवी को शुभकामनाये देते हुए, साहित्य जगत के चर्चित व्यक्ति। Best wishes to the Dynamic Samvad TV.
  4. रचनाकार भगत द्विवेदी “दीप” द्वारा रचना पाठ “जेठ की जरन, जो जर जर जात जिया…” – रचनाकार भगत द्विवेदी “दीप” द्वारा रचना पाठ
  5. गजल “दहशत जदा है, लोग हमारे शहर ….” शरद चंद्र उपाध्याय – गजल “दहशत जदा है, लोग हमारे शहर ….” शरद चंद्र उपाध्याय
  6. कवि विजय तिवारी किसलय की रचना “पावस तुम कितने मन भावन” – कवि विजय तिवारी किसलय की रचना “पावस तुम कितने मन भावन”
  7. गजल: “दौर जब मुश्किलों का आया है, खुद को तन्हा जहाँ में पाया है” शशि परिहार – गजल: “दौर जब मुश्किलों का आया है, खुद को तन्हा जहाँ में पाया है” शशि परिहार