योग-साधना LifeSkills/जीवन कौशल – 99 – Shri Jagat Singh Bisht

Shri Jagat Singh Bisht (Master Teacher: Happiness & Well-Being, Laughter Yoga Master Trainer, Author, Blogger, Educator and Speaker.)   In only one session, get the clarity, confidence and skills to reduce stress. Learn how to make a valuable difference and improve the happiness quotient of your everyday. LifeSkills Seminars, Workshops & Retreats on Happiness, Laughter Yoga & Positive Psychology. Speak to us on +91 73899 38255 lifeskills.happiness@gmail.com Courtesy – Shri Jagat Singh Bisht, LifeSkills, Indore ...
Read More

सूचना / Information – प्रख्यात साहित्यकार सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा पुरस्कृत

प्रख्यात साहित्यकार सुश्री नीलम सक्सेना चंद्रा पुरस्कृत नीलम सक्सेना चन्द्र जी को 1 मार्च 2019 को महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी द्वारा सोहनलाल द्विवेदी सम्मान से नवाजा गया। यह उनकी किशोर/किशोरियों की कहानी की पुस्तक “दहलीज़” हेतु मिला। यह सम्मान माननीय विनोद तावड़े जी, केबिनेट मंत्री महाराष्ट्र सरकार द्वारा प्रदान किया गया। दहलीज़ जब एक बच्चा अपने बचपन को पीछे छोड़ देता है और एक किशोर जीवन की ओर प्रवेश करता है, तो वह उस दहलीज पर खड़ा होता है जहां एक ओर ऐसे सपने होते हैं जो सितारों की तरह चमकते हैं और दूसरी ओर मन में संदेह होते हैं, भविष्य अंधकारमय लगता है और रास्ते कठिन लगते हैं। ऐसे समय के दौरान  किसी को एक ऐसे मार्गदर्शक की आवश्यकता होती है जो सही दिशा-निर्देश दे सके और उचित मार्ग दिखाए जो गंतव्य की ओर जाता है। पुराने दिनों के दौरान, गाइड की भूमिका परिवार में दादा-दादी या बड़ों द्वारा पूरी की जाटी थी। आज के युग में, कहानी युवाओं को संतुष्ट...
Read More

सूचना / Information – प्रख्यात साहित्यकार नामवर सिंह जी नहीं रहे

प्रख्यात साहित्यकार नामवर सिंह जी नहीं रहे जन्म: 28 जुलाई 1926 (बनारस के जीयनपुर गाँव में) निधन: 19 फरवरी 2019 (नई दिल्ली) हिन्दी के शीर्षस्थ शोधकार-समालोचक, निबन्धकार तथा मूर्द्धन्य सांस्कृतिक-ऐतिहासिक उपन्यास लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी के प्रिय शिष्य रहे।  अध्ययनशील तथा विचारक प्रकृति के नामवर सिंह हिन्दी में अपभ्रंश साहित्य से आरम्भ कर निरन्तर समसामयिक साहित्य से जुड़े हुए आधुनिक अर्थ में विशुद्ध आलोचना के प्रतिष्ठापक तथा प्रगतिशील आलोचना के प्रमुख एवं  सशक्त हस्‍ताक्षर थे। साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित आदरणीय नामवर सिंह जी ने हिन्दी साहित्य में आलोचना को एक नया आयाम दिया। प्रमुख रचनाएँ: छायावाद, इतिहास और आलोचना, कहानी नयी कहानी, कविता के नए प्रतिमान, दूसरी परम्परा की खोज, वाद विवाद संवाद आदि। सम्पादन : जनयुग और आलोचना प्रोफेसर : बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, सागर विश्वविद्यालय, जोधपुर विश्वविद्यालय  और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय अब आदरणीय स्व. नामवर सिंह जी की स्मृतियाँ शेष हैं। e-abhivyakti परिवार उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है। सादर नमन! ...
Read More

योग-साधना LifeSkills/जीवन कौशल – 75 – Shri Jagat Singh Bisht

Shri Jagat Singh Bisht (Master Teacher: Happiness & Well-Being, Laughter Yoga Master Trainer, Author, Blogger, Educator and Speaker.)     What are the benefits derived from your programme – The Wheel of Happiness & Well-Being? LifeSkills Courtesy – Shri Jagat Singh Bisht, LifeSkills, Indore...
Read More

सूचना – साहित्यिक पत्रिका सरस्वती मञ्जूषा का शुभारंभ! – वर्जिन साहित्यपीठ

साहित्यिक पत्रिका सरस्वती मञ्जूषा का शुभारंभ! (रचनाएँ आमंत्रित) सार्थक लेखन हेतु सभी लेखकगण को शुभकामनाएं! वर्जिन साहित्यपीठ इस वर्ष साहित्यिक पत्रिका सरस्वती मञ्जूषा का शुभारंभ कर रही है, जिसमें आप सभी का सहयोग अपेक्षित है। आप अपनी रचनाएँ virginsahityapeeth@gmail.com पर भेज सकते हैं। रचनाएँ कृपया मंगल/यूनिकोड फॉन्ट में ही भेजें। समय सीमा: प्रथम अंक हेतु अपनी रचनाएँ 28 फरवरी, 2019 तक भेज दीजिए। इसके बाद आप दूसरे अंक हेतु भी रचनाएँ भेज सकते हैं। प्रथम अंक का लोकार्पण अप्रैल, 2019 में किया जाएगा। यह पत्रिका प्रिंट और ईबुक दोनों रूपों में प्रकाशित होगी। यह पत्रिका अमेज़न और गूगल के अतिरिक्त विभिन्न महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय डिजिटल लाईब्रेरियों में भी उपलब्ध रहेगी। त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका सरस्वती मञ्जूषा के प्रथम अंक हेतु निम्नलिखित विधाओं में रचनाएँ आमंत्रित हैं: 1 साक्षात्कार 2 समसामयिक एवं साहित्यिक विषयों  पर आलेख 3 संस्मरण 4 पुस्तक समीक्षा 5 काव्य 6 कहानी 7 लघुकथा 8 बाल कविताएँ एवं कहानियाँ 9 अनुवादित साहित्य 10 हाशिये से (हाशिये पर खड़े मुख्यधारा के लेखक अथवा रचनाएँ) 11 देवनागरी में लिखी जाने वाली अन्य भाषाओं की रचनाएं (जैसे मैथिली, भोजपुरी इत्यादि) 12 साहित्यिक गतिविधियाँ यदि...
Read More

सूचना / Information – प्रख्यात लेखिका, मूर्धन्य साहित्यकार कृष्णा सोबती नहीं रहीं

  प्रख्यात लेखिका, मूर्धन्य साहित्यकार कृष्णा सोबती नहीं रहीं जन्म : 18 फरवरी 1925 निधन : 25 जनवरी 2019 1980 में 'ज़िन्दगीनामा' के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। 1996 में उन्हें साहित्य अकादमी की फेलोशिप मिली जो कि अकादमी का सर्वोच्च सम्मान है। 2017 में इन्हें भारतीय साहित्य के सर्वोच्च सम्मान "ज्ञानपीठ पुरस्कार" से सम्मानित किया गया है। उनके लेखन की कुछ स्मृतियाँ:  ''सर्जक की आँख पाना एक पुरस्कार है। कलाकार की आँख साधना लेखक के परिश्रम का सुफल और इन दोनों में संतुलन द्रष्टा की सामर्थ्य का संयोग, इन भरपूर क्षमताओं से लगभग परे लेखक को मात्र एक शिक्षार्थी की तरह जीवन भर सीखते चले जाना है। कोई भी रचनात्मक टुकड़ा अपने बीज और प्रकृति में, क़िस्म में एक साथ सार, संक्षिप्त, विस्तार और सघनता से प्रस्तुत किया जाए तो लेखक की मानसिक संलग्नता और रचना की सहवर्तिता एक-दूसरे के समानांतर रहते हैं। लेखक लिपिक होकर रचना से डिक्टेशन लेता है। इसी से संवेदनात्मक जोड़, योग और चित्ताकाश पर फैले बहु-संयोग रचना में जज़्ब हो जाते...
Read More

योग-साधना – LifeSkills/जीवन कौशल –Shri Jagat Singh Bisht & Smt Radhika Bisht

    Nourish your body, mind and soul with yoga, laughter, meditation, modern science and ancient wisdom to experience lasting happiness and well-being.       With years of deep research and practical sessions, we have developed a unique and complete programme for health, happiness and harmony of the body, mind and spirit. It transforms the entire experience of life by taking care of all the relevant dimensions – physiological, psychological and spiritual. LifeSkills Founders  – Shri Jagat Singh Bisht and Smt Radhika Bisht, LifeSkills, Indore ...
Read More

Amazon Kindle Direct Publishing Contest – Pen To Publish – 2018 – वर्जिन साहित्यपीठ

सूचना पटल - वर्जिन साहित्यपीठ  लेखकों के लिए सुनहरा अवसर Amazon Kindle Direct Publishing Contest - Pen To Publish - 2018 (अमेज़न किंडल डाइरैक्ट पब्लिशिंग (KDP) कॉन्टेस्ट - पेन टू पब्लिश - 2018)  (5 लाख तक की पुरस्कार राशि के साथ अमेज़न से  प्रकाशन का कॉन्ट्रैक्ट) यदि आप अमेज़न द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाहते हैं तो वर्जिन साहित्यपीठ इसमें आपका सहयोग कर सकता है। हम अमेज़न पर आपकी ईबुक बनाने और अपलोड करने में सहयोग करेंगे। आपके पुरस्कार की राशि सीधे आपके बैंक अकाउंट में आएगी। पुरस्कार: इस प्रतियोगिता में 5 लाख तक की पुरस्कार राशि के साथ अमेज़न से प्रकाशन का कॉन्ट्रैक्ट भी आप हासिल कर पाएंगे। भाषा: हिंदी, तमिल और इंग्लिश विधा: कविता, लघुकथा, उपन्यास इत्यादि महत्वपूर्ण तिथियां : 10 नवंबर, 2018 और 9 फरवरी, 2019 के मध्य अमेज़न पर प्रकाशित ईबुक्स आप अमेज़न  के निम्न लिंक पर क्लिक कर प्रतियोगिता संबंधी विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। https://www.amazon.in/b?ie=UTF8&node=13819037031&ref=p2p_both_email_ad_1 और अधिक जानकारी/सहायता के लिए सम्पर्क कीजिए। वर्जिन साहित्यपीठ 9971275250 (टीप : www.e-abhivyakti.com  में  प्रकाशित उपरोक्त लेख कोई  विज्ञापन नहीं  है। अपितु,  आपको एक अच्छी...
Read More