हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – * अमर होने की तमन्ना * – डॉ कुन्दन सिंह परिहार

डॉ कुन्दन सिंह परिहार अमर होने की तमन्ना (कल के अंक में आपने   डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  के व्यंग्य संकलन "एक रोमांटिक की त्रासदी" की श्री अभिमन्यु जैन जी द्वारा लिखित समीक्षा पढ़ी।  आज हम आपके लिए इसी व्यंग्य संकलन से एक चुनिन्दा व्यंग्य "अमर होने की तमन्ना" लेकर आए हैं। इस सार्थक व्यंग्य से आप व्यंग्य संकलन की अन्य व्यंग्य रचनाओं की कल्पना कर सकते हैं। साथ ही यह भी स्वाकलन कर सकते हैं कि - अमर होने की तमन्ना में आप अपने आप को कहाँ पाते हैं? यह तो तय है कि इस व्यंग्य को पढ़ कर कई लोगों के ज्ञान चक्षु जरूर खुल जाएंगे।) प्रकृति ने तो किसी को अमर बनाया नहीं। सब का एक दिन मुअय्यन है। समझदार लोग इसे प्रकृति का नियम मानकर स्वीकार कर लेते हैं। लेकिन फिर भी कुछ लोग अमरत्व पाने के लिए हाथ-पाँव मारते रहते हैं। प्रकृति पर वश नहीं चलता तो अपने नाम से स्कूल, अस्पताल, धर्मशाला, मंदिर बनवा देते हैं, क्योंकि इमारत...
Read More

हिन्दी साहित्य- पुस्तक समीक्षा – * एक रोमांटिक की त्रासदी * डॉ. कुन्दन सिंह परिहार – (समीक्षक – श्री अभिमन्यु जैन)

व्यंग्य संकलन – एक रोमांटिक की त्रासदी  – डॉ.कुन्दन सिंह परिहार  पुस्तक समीक्षा डॉ कुन्दन सिंह परिहार (वरिष्ठ एवं प्रसिद्ध व्यंग्यकार डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  का यह 50 व्यंग्यों  रचनाओं का दूसरा व्यंग्य  संकलन है। कल हम  आपके लिए इस व्यंग्य संकलन की एक विशिष्ट रचना प्रकाशित करेंगे) डॉ. कुन्दन सिंह परिहार जी  को e-abhivyakti की ओर से इस नवीनतम  व्यंग्य  संकलन के लिए हार्दिक शुभकामनायें एवं बधाई।         पुस्तक समीक्षा एक रोमांटिक की त्रासदी (व्यंग्य संकलन) लेखक- कुन्दन सिंह परिहार प्रकाशक- उदय पब्लिशिंग हाउस, विशाखापटनम। मूल्य - 650 रु. 'एक रोमांटिक की त्रासदी' श्री कुन्दन सिंह परिहार की 50 व्यंग्य रचनाओं का संकलन है।लेखक का यह दूसरा व्यंग्य-संकलन है, यद्यपि इस बीच उनके पाँच कथा-संकलन प्रकाशित हो चुके हैं।संकलन हिन्दी के मूर्धन्य व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई को इन शब्दों के साथ समर्पित है----'परसाई जी की स्मृति को, जिन्होंने पढ़ाया तो बहुतों को, लेकिन अँगूठा किसी से नहीं माँगा। 'ये मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ बार बार आकर्षित करती हैं। पुस्तक का शीर्षक पहले व्यंग्य 'एक रोमांटिक की त्रासदी'से अभिप्रेरित है।दिन में जो प्रकृति...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – * आधुनिक भारत के इतिहास लेखन में जवरसिंग का योगदान * – श्री शांतिलाल जैन

श्री शांतिलाल जैन  आधुनिक भारत के इतिहास लेखन में जवरसिंग का योगदान   (प्रस्तुत है श्री शांतिलाल जैन जी का  सामाजिक माध्यमों और आधुनिक तकनीक के सामंजस्य के सदुपयोग/दुरुपयोग पर अत्यंत सामयिक, सटीक एवं सार्थक व्यंग्य।)    आप जवरसिंग को नहीं जानते. उसे जानना जरूरी है. वो इन दिनों ‘आधुनिक भारत का इतिहास’ लिखने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है. हालाँकि उसकी पृष्ठभूमि से नहीं लगता कि वो इतिहास लेखन जैसी महती परियोजना पर काम कर रहा होगा, मगर सच यही है. उसके लिखे इतिहास के चुनिन्दा अंश प्रस्तुत करने से पहले मैं, संक्षेप में, उसकी पृष्ठभूमि बताना चाहता हूँ. जवरसिंग हमारे दफ्तर में साढ़े पैंतीस साल चपरासी के पद का निर्वहन करते हुए तीन महीने पहले सेवा निवृत्त हुआ. बायो-डाटा में उसकी शैक्षणिक योग्यता पाँचवी तक लिखी हुई थी मगर अपने नाम के पांच अक्षरों से ज्यादा वो कभी नहीं लिख सका. हाँ, वो हिंदी पढ़ लेता था. अखबार घंटों पढ़ता था. दोपहर का टैब्लॉयड ‘जलती मशाल’ उसका पसंदीदा अखबार रहा. क्राईम न्यूज़ सबसे पहले पढ़ता....
Read More

हिन्दी साहित्य – हास्य व्यंग्य – पादुकाओं  की आत्म कथा – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव हास्य व्यंग्य  कथा - पादुकाओं  की आत्म कथा   (प्रस्तुत है श्री विवेक  रंजन  श्रीवास्तव जी  का  एक  बेहतरीन  सार्थक हास्य व्यंग्य कथा)    मैं पादुका हूँ. वही पादुका, जिन्हें भरत ने भगवान राम के चरणो से उतरवाकर सिंहासन पर बैठाया था. इस तरह मुझे वर्षो राज काज  चलाने का विशद  अनुभव है. सच पूछा जाये तो राज काज सदा से मैं ही चला रही हूँ, क्योकि जो कुर्सी पर बैठ जाता है, वह बाकी सब को जूती की नोक पर ही रखता है. आवाज उठाने वाले को  को जूती तले मसल दिया जाता है. मेरे भीतर सुखतला होता है, जिसका कोमल, मृदुल स्पर्श पादुका पहनने वाले को यह अहसास करवाता रहता है कि वह मेरे रचे सुख संसार का मालिक है.   मंदिरो में पत्थर के भगवान पूजने, कीर्तन, भजन, धार्मिक आयोजनो में दुनियादारी से अलग बातो के मायावी जाल में उलझे , मुझे उपेक्षित लावारिस छोड़ जाने वालों को जब तब मैं भी छोड़ उनके साथ हो लेती हूं , जो मुझे...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – * चीज़ों को रखने की सही जगह  * – डॉ कुन्दन सिंह परिहार

डॉ कुन्दन सिंह परिहार चीज़ों को रखने की सही जगह   (डॉ  कुन्दन सिंह परिहार जी  का  एक सटीक व्यंग्य)  जबसे मेरी पुत्री ने नया टीवी ड्राइंगरूम से हटवा कर भीतर रखवा दिया है तबसे मेरा जी बहुत दुखी रहता है।टीवी के कार्यक्रमों का रंग और आनंद आधा हो गया है।पुत्री का कहना है कि मेहमानों के आवागमन के कारण ड्राइंगरूम में टीवी एकचित्त होकर नहीं देखा जा सकता और मेरा कहना है कि मंहगा टीवी सिर्फ देखने के लिए नहीं, दिखाने के लिए भी होता है।देखने के लिए कोई मामूली टीवी पर्दे के भीतर रखा जा सकता है, लेकिन मंहगा टीवी तो ड्राइंगरूम में ही होना चाहिए।जिन लोगों को जंगल में नाचता हुआ मोर अच्छा लगता है, उन्हें उनका मोर मुबारक।अपना मोर तो ड्राइंगरूम में नाचना चाहिए। मेरी एक बुआजी हुआ करती थीं जो पैरों में सोने की पायलें धारण किया करती थीं।जब कोई मिलने वाला आता तो वे उसकी तरफ पाँव पसारकर बैठ जाती थीं ताकि पायलों की चौंध सामनेवाले की आँखों तक...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – * साहित्यिक सम्मान की सनक * – श्री मनीष तिवारी

श्री मनीष तिवारी  साहित्यिक सम्मान की सनक  (प्रस्तुत है संस्कारधानी जबलपुर ही नहीं ,अपितु राष्ट्रीय ख्यातिलब्ध साहित्यकार -कवि  श्री मनीष तिवारी जी का एक सार्थक एवं सटीक व्यंग्य।)   सच कह रहा हूँ भाईसाब उम्र को मत देखिए न ही बेनूर शक्ल की हंसी उड़ाइये, मेरी साहित्यिक सनक को देखिए सम्मान के कीर्तिमान गढ़ रही है, सनक एकदम नई नई है, नया नया लेखन है, नया नया जोश है ये सब माई की कृपा है कलम घिसते बननी लगी, कितनी घिसना है कहाँ घिसना है ये तो अभी नहीं मालूम, पर घिसना है तो घिस रहे है। हमने कहा- "भाईसाब जरूर घिसिये पर इतना ध्यान रखिए आपके घिसने से कई समझदार पिस रहें हैं।" वे अकडकर बोले-  "आप बड़े कवि हैं इसलिए हम पर अत्याचार कर रहें हैं।आपको नहीं मालूम हम पूरी दुनिया में पुज रहे हैं। हमारी रचनाएं दुनिया के अनेक देशों में उड़ते उड़ते साहित्य पिपासुओं द्वारा भरपूर सराही जा रहीं हैं।" मैंने एक चिंतनीय लम्बी साँस खींची और कहा - "आपकी इसी प्रतिभा...
Read More

हिन्दी साहित्य – व्यंग्य – आम से खास बनने की पहचान थी लाल बत्ती – श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव

श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव आम से खास बनने की पहचान थी लाल बत्ती (प्रस्तुत है श्री विवेक  रंजन  श्रीवास्तव जी  का  एक सामयिक , सटीक एवं सार्थक व्यंग्य।) बाअदब बा मुलाहिजा होशियार, बादशाह सलामत पधार रहे हैं ... कुछ ऐसा ही उद्घोष करती थीं मंत्रियो, अफसरो की गाड़ियों की लाल बत्तियां. दूर से लाल बत्तियों के काफिले को देखते ही चौराहे पर खड़ा सिपाही बाकी ट्रेफिक को रोककर लालबत्ती वाली गाड़ियो को सैल्यूट करता हुआ धड़धड़ाते जाने देता था.  लाल बत्तियां  आम से खास बनने की पहचान थीं. चुनाव के पहले और चुनाव के बाद लाल बत्ती ही जीतने वाले और हारने वाले के बीच अंतर बताती थीं. पर जाने क्या सूझी उनको कि लाल बत्ती ही बुझा दी यकायक. मुझे लगता है कि यूं लाल बत्ती का विरोध हमारी संस्कृति पर कुठाराघात है. हम सब ठहरे देवी भक्त. मंदिर में दूर से ही उंचाई पर फहराती लाल ध्वजा देखकर भक्तो को जिस तरह माँ का आशीष मिल जाता है कुछ उसी तरह लाल बत्ती...
Read More

हिन्दी साहित्य- व्यंग्य – * लोकतंत्र के बहाने लोकतंत्र * – श्री रमेश सैनी

श्री रमेश सैनी लोकतंत्र के बहाने लोकतंत्र (प्रस्तुत है सुप्रसिद्ध लेखक/व्यंग्यकार श्री रमेश सैनी जी का  व्यंग्य – “लोकतंत्र के बहाने लोकतंत्र”।) शहर में क्या पूरे प्रदेश में हलचल है। वैसे यह हलचल यदाकदा दो-चार महीने में समुद्री ज्वार-भाटा की भांति उठती गिरती है कि ‘‘लोकतंत्र खतरे में है’’ या ‘‘लोकतंत्र की हत्या हो गयी है’’ यह उसी तरह है जब पाकिस्तान में इस्लाम खतरे में हो जाता है। जब-जब देश में चुनाव होते हैं तब-तब लोकतंत्र पर खतरा मंडराने लगता है। चुनाव और लोकतंत्र, ये हैं तो सगे भाई, पर दिखते दुश्मन जैसे हैं। लोकतंत्र है तो चुनाव है, और चुनाव है तो लोकतंत्र भी रहेगा। पर देश में हर पार्टी का अपना लोकतंत्र है, जो कभी लाल हरे, केशरिया हरे तो कभी तीन रंगों में रंगे हैं। सभी पार्टियों ने लोकतंत्र को अपने रंग में रंगकर, लोकतंत्र की दुकान सजा ली है। वे अपने-अपने तरह से लोकतंत्र की मार्केटिंग कर रहे हैं। लोकतंत्र इनके हाथ में है। आज लोकतंत्र शोकेस का पीस बन गया है। लोग उसे...
Read More

हिन्दी साहित्य- व्यंग्य – * चालान सज्जनता का * – डॉ . प्रदीप शशांक

डॉ . प्रदीप शशांक  चालान सज्जनता का  हम अपनी मोपेड पर आराम से ( लगभग 20 किलोमीटर की गति से) चले जा रहे थे । मस्तिष्क में विचारों का अंतर्द्वंद्व चल रहा था । तभी अचानक यातायात पुलिस के सिपाही ने सड़क के बीच डंडा लहराते हुए हमारे वाहन को रोक दिया । हमने पूछा - "क्या हो गया हवलदार साहब ?" "देखते नहीं , चेकिंग चल रही है । अपने वाहन को किनारे खड़े कर साहब को कागजात दिखाओ ।" हमने अच्छे नागरिक के दायित्व का परिचय देते हुए उसे समस्त कागजात दिख दिये । इंस्पेक्टर ने मेरा ऊपर से नीचे तक  मुआयना किया और मुझे घूरते हुए मेरे कागजात को उलट पलट कर देखा तथा गुस्से में बोला - "साला बहुत ईमानदार बनता है , पूरे कागजात लेकर चल रहा है , तुझे अभी देखता हूँ । यहां किनारे खड़े हो जाओ , पहले इन चार  पांच ग्राहकों को निबटा दूं ।" हमने देखा कि अन्य लोगों ने इंसपेक्टर को वाहन के कागजात दिखाने...
Read More

हिन्दी साहित्य- व्यंग्य – * उधार प्रेम का बंधन है * – श्री रमेश सैनी

श्री रमेश सैनी उधार प्रेम का बंधन है (प्रस्तुत है सुप्रसिद्ध लेखक/व्यंग्यकार श्री रमेश सैनी जी का  व्यंग्य - "उधार प्रेम का बंधन है"।) आज रामलाल की दूकान पर पान खाने पहुँच गया। पान खाकर पैसे देने लगा तो उन्होंने नोट देखकर कहा - भैया छुट्टे नहीं हैं। तब मैंने कहा - कल ले लेना। तब नई-नई चिपकी सूक्ति की ओर इशारा किया जिसमें लिखा था - उधार प्रेम की कैंची है। दूसरी ओर इशारा किया, वहाँ लिखा था - आज नगद कल उधार। बस मेरा भेजा उखड़ गया - क्या तमाशा है, यह सब गलत है, इस संबंध में भ्रम फैला रहे हो तुम। मैंने कहा तो यह सुनकर वह मुस्करा दिया। उसकी मुस्कराहट में व्यंग्य छिपा था, जो मुझे अंदर तक भेद गया। अब वक़्त आ गया है कि उन्हें एक लम्बा डोज़् पिलाऊं। वैसे उनकी आदत है साल-छः महीने में एक लम्बे डोज़् की। तभी वे काफी समय तक ठीक रहते हैं। रामलाल जी आप गलतफहमी मत पालिए आज उधार का जमाना  है - उधार...
Read More