हिन्दी साहित्य – संस्मरण ☆ व्यंग्य और कविता के बीच सेतु थे डा.शेरजंग गर्ग और प्रदीप चौबे ☆ श्री विनोद साव

श्री विनोद साव  ☆ व्यंग्य और कविता के बीच सेतु थे डा.शेरजंग गर्ग और प्रदीप चौबे ☆ (प्रसिद्ध व्यंग्यकार श्री विनोद साव जी का e-abhivyakti में हार्दिक स्वागत है। हम भविष्य में आपकी चुनिन्दा रचनाओं की अपेक्षा करते हैं।)  कविता, व्यंग्य क्षेत्र में सक्रिय रहे दो रचनाकार प्रदीप चौबे और डा.शेरजंग गर्ग ने अपनी रचनायात्रा को विराम दिया और साहित्य बिरादरी से उन्होंने अंतिम बिदागरी ले ली. अब उनका व्यक्तित्व नहीं उनका कृतित्व हमारे सामने होगा और उनके व्यक्तित्व को हम उनके कृतित्व में ही तलाश पाएँगे उनसे सीधे साक्षात्कार के जरिए अब नहीं. इन दोनों रचनाकारों से मेरा विशेष परिचय नहीं रहा सामान्य परिचय ही रहा. आंशिक मुलाकातें हुईं पर हम एक दूसरे के नाम को जाना करते थे, हमारे बीच पूरी तरह अपरिचय व्याप्त नहीं था. ये दोनों रचनाकार व्यंग्य की विधा से जुड़े रहे इसलिए मैं भी इनसे थोडा जुड़ा रहा. मैंने कविता नहीं की पर प्रदीप चौबे की कविताओं में जो हास्य-व्यंग्य की छटा मौजूद थी उसने उनकी ओर मेरी...
Read More

संस्मरण- विकास की दौड़ में खुद को खोते गाँव – सुश्री मालती मिश्रा ‘मयंती’

मालती मिश्रा 'मयंती'           विकास की दौड़ में खुद को खोते गाँव (सुश्री मालती मिश्रा जी का यह आलेख आपको जीवन  के उन  क्षणों का स्मरण करवाता है जो हम विकास की दौड़ में अपने अतीत के साथ खोते जा  रहे हैं। यह मेरे लिए अत्यन्त कठिन था कि इस आलेख को जीवन यात्रा मानूँ या संस्मरण। अब आप स्वयं ही तय करें कि यह आलेख जीवन यात्रा है अथवा संस्मरण।) वही गाँव है वही सब अपने हैं पर मन फिर भी बेचैन है। आजकल जिधर देखो बस विकास की चर्चा होती है। हर कोई विकास चाहता है, पर इस विकास की चाह में क्या कुछ पीछे छूट गया, ये शायद ही किसी को नजर आता हो। या शायद कोई पीछे मुड़ कर देखना ही नहीं चाहता। पर जो इस विकास की दौड़ में भी दिल में अपनों को और अपनत्व को बसाए बैठे हैं उनकी नजरें, उनका दिल तो वही अपनापन ढूँढ़ता है। विकास तो मस्तिष्क को संतुष्टि हेतु और शारीरिक और सामाजिक...
Read More

संस्मरण-भूली हुई यादें – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

श्री जय प्रकाश पाण्डेय भूली हुई यादें (वरिष्ठ साहित्यकार आदरणीय श्री जयप्रकाश पाण्डे जी हमारी पीढ़ी के उन सौभाग्यशाली लोगों में शामिल हैं  जिन्हें कई वरिष्ठ हस्तियों से व्यक्तिगत रूप से मिलने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है, जिनमें प्रमुख तौर पर स्व श्री हरीशंकर परसाईं और आचार्य रजनीश जैसी हस्तियाँ शामिल हैं। हम समय समय पर उनके संस्मरणों का उल्लेख अपने पाठक मित्रों  से साझा करते रहेंगे।)   इन दिनों डर और अविश्वास ने हम सब की जिंदगी में ऐसा कब्जा जमा लिया है कि कुछ भी सच नहीं लगता, किसी पर भी विश्वास नहीं होता। कोई अपनी पुरानी यादों के पन्ने खोल कर किसी को बताना चाहता है तो सुनने वाला डर और अविश्वास की चपेट में लगता है। जिस दोस्त को हम ये कहानी बता रहे हैं, वह इस कहानी के सच के लिए तस्वीर चाह रहा है, सेल्फी देखना चाह रहा है, विडियो की बात कर रहा है। उस जमाने में ये सब कहां थे। फिर कहां से लाएं जिससे उसे लगे...
Read More

संस्मरण-मौसी – सुश्री मालती मिश्रा मयंती

मालती मिश्रा मयंती            (सुश्री मालती मिश्रा जी का अपनी मौसी से संबन्धित संस्मरण उनकी संवेदनशीलता की  पराकाष्ठा है। यह दस्तावेज़ उनके संवेदनशील हृदय  से संलिप्त  स्मृतियों  का जीवंत चित्रण है। ) मौसी आज अचानक ही न जाने क्यों उस व्यक्तित्व की याद आई जो मेरे जीवन में माँ सी थीं। हालांकि आज वो इस दुनिया में प्रत्यक्ष रूप से नहीं हैं परंतु माँ की यादों के साथ उनकी यादें भी सदा मेरे हृदय में जीवित रहती हैं। आज तो मेरी माँ जिन्हें हम 'अम्मा' कहते हैं वो भी हमारे बीच प्रत्यक्ष रूप से नहीं हैं । परंतु, मौसी उनकी छोटी बहन होते हुए भी उनसे पहले ही इहलोक को छोड़ गई थीं । शायद उनका बिछोह ही था, जिसने अम्मा को और अधिक तोड़ दिया।  मुझे तो उनकी मृत्यु के विषय में बाद में पता चला।  अम्मा ने फोन पर बताया कि 'मौसी चल बसीं' और वो आज ही उनकी तेरहवीं आदि सारे क्रियाकर्म सम्पन्न करवाकर घर लौटी हैं। उनकी आवाज उनके व्यथित...
Read More

संस्मरण-यादें: भूली-बिसरी – इन्दल – श्री संतोष रावत

यादें: भूली-बिसरी - इन्दल 'मे आई कम इन सर' सुनते ही पूरी क्लास का ध्यान दरवाजे की ओर गया और एक ही क्षण में शिक्षक की ओर। शिक्षक की ओर से कोई उत्तर नहीं। उन्होनें अपना रूल उठाया और दरवाजे की ओर खुद ही बढ़ चले। दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ रहा था क्लास में पिछली सीट पर बैठा इन्दल। गले से मफलर निकाल कर दोनों हथेलियों पर लपेटा, यह सोच कर कि भरी ठंड में रूल से मार खाई हथेलियों को आपस में रगड़ने से और मफलर की गर्माहट से दर्द से शीघ्र आराम मिल जाएगा। पूरी क्लास स्तब्ध। कभी इन्दल के रुआंसे चेहरे की ओर देखती, कभी ब्लैक बोर्ड के सामने बैठे शिक्षक को। इन्दल हमारे साथ पढ़ता था। वैसे उसका नाम इंदर था। समाज में निम्न जाति का कहलाने वाला यह क्लास के सभी छात्रों से ज्यादा तगड़ा था। ऊंचा कद, सीधा होकर चलने वाला यह क्लास में सबसे बड़ा दिखता था। हालांकि उम्र में वह हमारे जितना ही बड़ा...
Read More

संस्मरण-चुटका परमाणु घर – श्री जय प्रकाश पाण्डेय

चुटका परमाणु घर  बीस साल पहले मैं स्टेट बैंक की नारायणगंज (जिला - मण्डला) म. प्र. में शाखा प्रबंधक था। बैंक रिकवरी के सिलसिले में बियाबान जंगलों के बीच बसे चुटका गांव में जाना हुआ था आजीवन कुंआरी कलकल बहती नर्मदा के किनारे बसे छोटे से गांव चुटका में फैली गरीबी, बेरोजगारी, निरक्षरता देखकर मन द्रवित हुआ था और आज संस्मरण लिखने का अचानक मन हो गया। चुटका गांव की आंगन में रोटी सेंकती गरीब छोटी सी बालिका ने ऐसी प्रेरणा दी कि हमारे दिल दिमाग पर चुटका के लिए कुछ करने का भूत सवार हो गया। उस गरीब बेटी के एक वाक्य ने इस संस्मरणात्मक कहानी को जन्म दिया। आफिस से रोज पत्र मिल रहे थे,....... रिकवरी हेतु भारी भरकम टार्गेट दिया गया था । कहते है - ''वसूली केम्प गाँव -गाँव में लगाएं, तहसीलदार के दस्तखत वाला वसूली नोटिस भेजें ..... कुर्की करवाएं ......और दिन -रात वसूली हेतु गाँव-गाँव के चक्कर लगाएं, ... हर वीक वसूली के फिगर भेजें,.... और...
Read More