श्री आशीष कुमार

(युवा साहित्यकार श्री आशीष कुमार ने जीवन में  साहित्यिक यात्रा के साथ एक लंबी रहस्यमयी यात्रा तय की है। उन्होंने भारतीय दर्शन से परे हिंदू दर्शन, विज्ञान और भौतिक क्षेत्रों से परे सफलता की खोज और उस पर गहन शोध किया है। अब  प्रत्येक शनिवार आप पढ़ सकेंगे उनकी लेखमाला  के अंश “स्मृतियाँ/Memories”।  आज के  साप्ताहिक स्तम्भ  में प्रस्तुत है एक और संस्मरण “चुनाव”।)

 

☆ साप्ताहिक स्तम्भ – ☆ स्मृतियाँ/MEMORIES – #4 ☆

 

चुनाव

 

मैंने कुछ महीने नैनीताल में भारत सरकार की एक परियोजना में उत्तराखंड सरकार के साथ काम किया था । सर्दी के मौसम में नैनीताल में रहना अपने आप में एक चुनौती है । और जिस साल मैं नैनीताल में रहता था उस साल बर्फ़बारी ने पिछले कई सालो का रिकॉर्ड तोड़ा था । प्रस्ताव पत्र मिलने के बाद मै नैनीताल नगरपालिका मे पहुँचा  क्योंकि प्रस्ताव पत्र मे मेरी रिपोर्टिंग नगरपालिका नैनीताल ही लिखी थी।  मुझे सूचना प्रौद्योगिकी अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया था ।

मेरे रिपोर्टिंग बॉस नगरपालिका नैनीताल के अधिशासी अधिकारी थे।  जैसे ही मैं सबसे पहली बार उनसे मिलने गया उन्होंने कहा “आशीष जी अभी कल से आदर्श आचार सहिंता लग रही है और चुनावों तक कोई काम नहीं होगा आप सोच लीजिए या तो आपको आज से ही संबद्ध होना होगा या फिर करीब 1 महीना इन्तजार करना होगा । मैंने बिना दूबारा सोचे बोला ‘सर मैं आज से ही संबद्ध हो रहा हूँ”।

अगले दिन ही मुझे लिखित सूचना दे दी गयी की मेरी  नियुक्ति चुनावों तक वीडियो निगरानी अधिकारी के तौर पर कर दी गयी है और मुझे एक बहुत मोटा आदर्श आचार सहिंता का दस्तावेज़ दे दिया गया पढ़ने की लिए । उस दस्तावेज़ मे चुनाव के प्रचार के समय विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा पालन किये जाने वाले नियम लिखे थे।  जैसे प्रचार रैली मे कितने वाहन होने चाहिए, भाषण की भाषा क्या होनी चाहिए आदि आदि । मुझे एक डिजिटल कैमरा दिया गया था और मेरा ये काम था की जहाँ भी चुनाव प्रचार हो उसका मुझे वीडियो बनाना होता था और उस वीडियो से एक CD बना कर हर शाम 5 बजे DM ऑफिस भेजना होता था । वहाँ उस वीडियो की जाँच होती थी कि  उस वीडियो मे किसी राजनीतिक दल ने आदर्श आचार सहिंता का कोई नियम तो नहीं तोड़ा, और अगर तोड़ा हो तो फिर उस दल के ख़िलाफ़ कानूनी कार्रवाई होती थी । अगर उलंघन बड़ा हो तो उस दल का टिकट भी रद्द हो सकता था । ऐसे ही एक सुबह सर का फ़ोन आया “अरे आशीष जी जल्दी मल्लीताल मे बैंक के पास कैमरा लेकर आइये BJP की रैली आ रही है हमे वो कवर करना है”।  6 January 2012 की सुबह थी नैनीताल मे बहुत ज्यादा बर्फ़बारी हुई थी।  सब तरफ सफ़ेद ही सफ़ेद लग रहा था। मैं और एक हमारे नगरपालिका के साथी जा कर मल्लीताल मे बने सार्वजानिक शौचालय के ऊपर खड़े हो गए वहाँ से दूर तक सड़क दिखाई दे रही थी अचनाक BJP की रैली आनी शुरू हो गयी मैं शौचालय के ऊपर सफ़ेद बर्फ़ पर खड़ा हुआ वीडियो से रैली कवर कर रहा था।

अचानक सर की आवाज़ आयी “आशीष जी जल्दी आईये गाड़ी मे बैठये आधी से ज्यादा रैली निकल चुकी है अब हम आगे तल्लीताल से रैली कवर करेंगे”।  मैंने जैसे ही चलने के लिए कदम बढ़ाया तुरंत मेरा पैर बर्फ़ पर फिसल गया और मैं बर्फ़ पर एक तरफ गिर पड़ा।  कैमरा दूसरी तरफ गिरा पड़ा था । सर चिल्ला रहे थे “आशीष जी आशीष जी”।  तभी हमारे नगरपालिका के साथी बोले ‘सर आशीष जी तो बर्फ़ मे गिरे पड़े है”। उस चुनाव की 1 महीने मे लगी मेरी ड्यूटी ने मुझे बहुत कुछ सिखाया भौतिक रूप से भी वो समय बड़ा चुनौतीपूर्ण था ।

एक दिन शाम को पता चला की अगले दिन मुझे और हमारे 1 नगरपालिका के साथी को बेताल घाट जाना है क्योकि वहाँ BJP का कोई बड़ा नेता आने वाला था । बेताल घाट एक दुर्लभ जगह थी।  वहाँ जाने का रास्ता भी अच्छा नहीं था और ना ही वहाँ तक जाने के लिए बहुत ज्यादा साधन उपलब्ध थे।  अगले दिन सुबह 6:00 बजे ही हम बेताल घाट के लिए निकल गए।  1 बस और दो ट्रैकर करके हम लोग बेताल घाट पहुंचे।  वहाँ पूरे दिन बना खाये पिए BJP के नेता के आने का इन्तजार करते रहे पर वो नहीं आया शाम को वापस आने मे भी देर हो गयी और मैं अँधेरे मे नैनीताल पहुंचा । क्योकि सर्दियों का समय था इसलिए सब होटल भी बंद थे मैं पूरे दिन का थका हुआ और भूखा करीब रात्रि के 9:30 बजे अपने कमरे मे आकर सो गया मेरी हालत काफी ख़राब थी  । मेरी आँख लगी ही थी की सर का फ़ोन आ गया वो बोले “अरे आशीष जी जल्दी ऑफिस के पास आईये अभी खबर मिली है की भवाली मे एक राजनीतिक दल वोट पाने के लिए लोगो में शराब बँटवा रहा है।  जल्दी आईये गाड़ी तैयार है और मैं गाड़ी मे ही बैठा हूँ”।  मैंने कहा “सर इस समय रात के साढ़े दस बजे” तो वो बोले “हाँ जल्दी आ जाइये।” क्या करते साहब जाना पड़ा । हमने पूरी भवाली और आसपास का क्षेत्र ढूंढा पर कही कुछ भी नहीं मिला । मैं रात को करीब एक बजे कमरे में आकर सोया ।

एक दिन हमारी ड्यूटी कुछ पुलिस के लोगो के साथ भवाली से आगे अल्मोड़ा सड़क पर अल्मोड़ा की ओर जाने वाले वाहनों की जाँच और उनका वीडियो बनाने मे लगा दी गयी।  हमे ये देखना था कि कोई गाड़ी वाला चुनाव मे उपयोग होने वाली कोई अवैध सामग्री लेकर तो नहीं जा रहा है । एक आदमी बहुत विलासिता पूर्ण गाड़ी मे आया और जब हमने उसकी गाड़ी रुकवाई तो वो बिदक गया।  अपनी कार की जाँच करवाने को राज़ी नहीं हो रहा था और बोल रहा था “आप लोग जानते नहीं मैं कौन हूँ ?” हमारे साहब ने कहा  “आप कोई भी हो हम अपना काम तो करेंगे ही हमने तो मुख्यमंत्री साहब की भी गाड़ी जाँची है”।  फिर उसने गाड़ी की जाँच करवा ली ।

चुनाव मे लगी मेरी एक महीने की ड्यूटी मे मुझे बहुत मजा आया । पर दो बातो पर मुझे यक़ीन नहीं हो रहा था।  पहली कि जितना आंतरिक बल मैंने इस दौरान दिखाया क्या उतना आंतरिक बल मेरे अंदर है ? और दूसरी मुझे तो सूचना प्रौद्योगिकी अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया था ।

 

© आशीष कुमार  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *