डॉ.  मुक्ता

(डा. मुक्ता जी हरियाणा साहित्य अकादमी की पूर्व निदेशक एवं  माननीय राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित/पुरस्कृत हैं।  आज प्रस्तुत है  उनका आलेख  “मज़दूरी / मजबूरी वाली”।   यह एक आलेख ही नहीं अपितु, आह्वान है, यह हमें हमारे समाज के प्रति मानवीय एवं सामाजिक दायित्व को भी याद दिलाता है।  यह हमें  प्रोत्साहित करता है कि यदि प्रत्येक व्यक्ति कम से कम एक ऐसे बच्चे का दायित्व उठा ले जो “मजबूरी में बाल मजदूरी” कर रहा हो तो  हम  न जाने कितने ही बच्चों को सम्मानजनक जीवन देने में सफल हो सकते हैं।  बाल मजदूरी के साथ  ही उन्होने और भी कई सामाजिक समस्याओं पर प्रकाश डाला है। इस दिशा में कई गैर सरकारी संगठन भी कार्य कर रहे हैं।  किन्तु, एक मनुष्य अथवा एक नागरिक के रूप में हमारा भी तो कुछ कर्तव्य बनता है? जरा सोचें…. । 

 

☆ मज़दूरी / मजबूरी वाली

 

मज़दूरी इनकी मजबूरी एक विवादास्पद विषय है तथा अनेक प्रश्नों व समस्याओं को जन्म देता है। अनगिनत पात्र मनोमस्तिष्क में दस्तक देते हैं, क्योंकि  लम्बे समय तक मुझे अंग-संग रहने का अवसर प्राप्त हुआ है। यह पात्र कभी लुकाछिपी का खेल खेलते हैं तो कभी करुणामय नेत्रों से निहारते हैं, मानो विधाता के न्याय पर अंगुली उठा रहे हों। —कैसा न्याय है यह? जब सृष्टि-नियंता ने सबको समान बनाया है— सब में एक-सा रक्त प्रवाहित है तो हमसे दोयम दर्जे का व्यवहार क्यों? एक ओर बड़ी-बड़ी अट्टालिकाओं में रहने वाले लब्ध-प्रतिष्ठित धनी लोग और दूसरी ओर झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले, खुले आकाश के नीचे ज़िन्दगी बसर करने वाले लोग क्यों? हमारे देश में इंडिया और भारत में वैषम्य क्यों?

उक्त कथन बहुत चिंतनीय है, विचारणीय है। जब हम मासूम बच्चों को मज़दूरी करते देखते हैं तो आत्मग्लानि होती है। ढाबे पर बर्तन धोते या चाय व खाना परोसते बच्चे, रैड लाइट पर गाड़ी साफ करते व फूल, खिलौने खरीदने का अनुरोध करते बच्चे, सड़क किनारे अपने छोटे भाई-बहिन का ख्याल रखते, जूठन पर टूटते नंग-धड़ंग बच्चे, अधिक पाने के लिए एक-दूसरे से झगड़ते, मरने-मारने पर उतारू बच्चे,  रेलवे स्टेशन पर बूट-पालिश करते, ट्रेन में अपनी कमीज़ से कंपार्टमेंट की सफाई करते या अखबार व मैगज़ीन बेचते बच्चों की ओर हमारा ध्यान स्वतः आकर्षित हो जाता है और हम उनकी मज़बूरी के बारे में जानने को आतुर हो, उन पर प्रश्नों की बौछार लगा देते हैं। परन्तु सहानुभूति प्रकट करने के अतिरिक्त कुछ कर पाने में, स्वयं को असमर्थ पाते हैं।

मुझे स्मरण हो रही है वह घटना, जब मैं गुवाहाटी की ट्रेन की प्रतीक्षा में दिल्ली रेलवे स्टेशन पर बैठी थी। अपनी ड्रेस बदलते और स्वयं को मिट्टी से लथपथ करते, घाव दर्शाने हेतु मरहम लगाते, एक जैसी टोपियां डालते देख, मैं एक बच्चे से वार्तालाप कर बैठी। वह मौन रहा और इसी बीच एक व्यक्ति उन सब के लिए भोजन लेकर आया। भोजन करने के पश्चात् वे अपने-अपने गंतव्य की ओर बढ़ गए। उस बच्चे ने मेरी जिज्ञासा के बारे में अपने मालिक को जानकारी दी। वह मुझे घूरता रहा मानो देख लेने की धमकी दे रहा हो।

बच्चे ट्रेन के अलग-अलग डिब्बों में सवार हो गए परंतु उस गैंग के बाशिंदों ने मुझे नहीं चढ़ने दिया। उन्होंने रास्ता रोके रखा और चार-पांच लोग ए•सी• कंपार्टमेंट के दरवाज़े में खड़े हो गए और अपने मिशन में सफल हो गए। मेरा मोबाइल व पैसे पर्स से गायब हो चुके थे। ट्रेन के चलने के कारण मैं कोई कार्यवाही भी नहीं कर सकती थी। वे लोग उस डिब्बे से उतर चुके थे।

मैं सारा रास्ता यही सोचती रही, कितने शातिर हैं यह लोग…वे इन बच्चों से भीख मांगने का धंधा करवाते हैं और यह बच्चे शायद डर के मारे उनके इशारों पर नाचते रहते हैं। यह भी हो सकता है कि इनके माता- पिता इन कारिंदों से रात को बच्चों की एवज़ में पैसा वसूलते हों। वैसे भी छोटे बच्चों को तो स्त्रियां किराए पर ले लेती हैं …अपना धंधा चलाने के निमित्त और रात को उनके माता-पिता को लौटा देती हैं, दिहाड़ी के साथ।

जहां तक दिहाड़ी का संबंध है, बच्चों व महिलाओं को कम पैसे दिए जाते हैं। बाल मज़दूरी कानूनी अपराध है। परंतु  बच्चों के बिना तो इनका काम ही नहीं चलता।

सुबह जब बच्चे, कंधे पर बैग लटका कर, स्कूल बस या कार में यूनिफॉर्म पहनकर जाते हैं, तो इनके हृदय का आक्रोश सहसा फूट निकलता है और वे अपने माता-पिता को प्रश्नों के कटघरे में खड़ा कर देते हैं। वे उन्हें स्कूल भेजने की अपेक्षा, उनके हाथ में कटोरा थमाकर क्यों भेज देते हैं? उनके साथ यह दोगला व्यवहार क्यों? माता पिता के उत्तर से उन्हें संतोष नहीं होता। उनके कोमल मन में समानाधिकारों व  व्यवस्था-परिवर्तन की बात उठती है और वे उन्हें आग़ाह करते हैं कि वे भविष्य में कूड़ा बीनने व भीख मांगने नहीं जायेंगे, न ही मेहनत मज़दूरी करेंगे।

चलिए! रुख करते हैं, घरों में काम करने वाली बाइयों की ओर…जिन्हें उनके परिचित सब्ज़बाग दिखला कर दूसरे प्रदेशों से ले आते हैं और इन नाबालिग लड़कियों को दूसरों के घरों में काम पर लगा देते हैं, जिसकी एवज़ में वे मोटी रकम वसूलते हैं। 11 महीने तक वे उस घर में दिन रात काम करती हैं। जब वे घर  छोड़ कर आती हैं तो उदास होती हैं और काम करना इनकी मजबूरी। परंतु धीरे-धीरे वे मालकिन की भांति व्यवहार करने लगती हैं। आजकल वे बहुत भाव खाती हैं

परंतु कई घरों में तो उनका शोषण किया जाता है। दिन रात काम करने के पश्चात् इन्हें पेट भर खाना भी नहीं मिलता। साथ ही उन्हें बंधक बनाकर रखा जाता है, मारा-पीटा जाता है व शारीरिक शोषण भी किया जाता है। यह मासूम अपनी मनोव्यथा किसी से नहीं कह सकतीं। कई बार जुल्म सहते-सहते तंग आकर वे भाग निकलती हैं या आत्महत्या कर लेती हैं।

आजकल तो एजेंटों का यह धंधा खूब पनप रहा है। वे लड़की को किसी के घर छोड़ कर साल भर का एडवांस ले जाते हैं और चंद घंटों बात वह लड़की अपने साथ कीमती सामान लेकर भाग निकलती है। वे बेचारे पुलिस स्टेशन के चक्कर लगाते रह जाते हैं। वहां जाकर उन्हें आभास होता है कि वे ठगी के शिकार हो चुके हैं।

परंतु बहुत से बच्चों को मज़दूरी करनी पड़ती है विषम पारिवारिक परिस्थितियों के कारण, किसी अनहोनी के घटित हो जाने के कारण, उन मासूमों के कंधों पर परिवार का बोझ आन पड़ता है और वे उम्र से पहले बड़े हो जाते हैं। यदि इन्हें मज़दूरी न मिले तो असामान्य परिस्थितियों में परिवार खुदक़ुशी करने को विवश हो जाता है और भीख मांगने के अतिरिक्त उनके सम्मुख दूसरा विकल्प शेष नहीं रहता।

परन्तु कुछ बच्चों में आत्म सम्मान का प्रभाव अत्यंत प्रबल होता है। वे मेहनत-मज़दूरी करना चाहते हैं क्योंकि भीख मांगना उनकी फ़ितरत नहीं होती और उनके संस्कार उन्हें झुकने नहीं देते।

चंद लोग क्षणिक सुख के निमित्त अपनी संतान को जन्म देकर सड़कों पर भीख मांगने को छोड़ देते हैं। अक्सर वे बच्चे नशे के आदी होने के कारण अपराध जगत् की अंधी गलियों में अपना जीवन नष्ट कर लेते हैं। वे समाज में अव्यवस्था व दहशत फैलाने का उपक्रम करते हैं तथा यह बाल अपराधी रिश्तों को दरक़िनार कर अपने माता-पिता व परिवार-जनों की जान लेने में भी संकोच नहीं करते। लूटपाट, हत्या, बलात्कार, अपहरण आदि को अंजाम देना इनकी दिनचर्या में शामिल हो जाता है। मुझे ऐसे बहुत से बच्चों के संपर्क में रहने का अवसर प्राप्त हुआ। लाख प्रयास करने पर भी मैं उन्हें इन बुरी आदतों से सदैव के लिए मुक्त नहीं करवा पाई। ऐसे लोग वादा करके अक्सर भूल जाते हैं और फिर उसी दलदल में लौट जाते हैं। इनके चाहने वाले दबंग लोग इन्हें सत्मार्ग पर चलने नहीं देते क्योंकि इससे उनका धंधा चौपट हो जाता है।

मज़दूरी इनकी मजबूरी पर भी विश्वास करना कठिन हो गया है क्योंकि आजकल तो सब मुखौटा धारण किए हैं। अपनी मजबूरी को दर्शा कर लोगों को लूटना इनका पेशा बन गया है। वे बच्चे जिन्हें मजबूरी के कारण मज़दूरी करनी है, सचमुच सहानुभूति के पात्र हैं। समाज के लोगों व सरकार के नुमाइंदों को उनकी सहायता-सुरक्षा के लिए हाथ बढ़ाने चाहिएं ताकि एक स्वस्थ समाज की संरचना हो सके और हर बच्चे को शिक्षा का मौलिक अधिकार प्राप्त हो सके। मानव-मूल्यों का संरक्षण हो तथा संबंधों की गरिमा बनी रहे। स्नेह, प्रेम, सौहार्द, सहयोग, सहनशीलता, सहानुभूति आदि दैवीय गुणों का अस्तित्व कायम रहे। इंसान के मन में दूसरे की मजबूरी का लाभ उठाने का भाव कभी भी जाग्रत न हो और समाज में समन्वय, सामंजस्य व समरसता का साम्राज्य हो। मानव स्व पर, राग-द्वेष से ऊपर उठ एक अच्छा इंसान बन जाये।

अंत में मैं यही कहना चाहूंगी, यदि हम सब मिलकर प्रयासरत रहें और एक बच्चे की शिक्षा का दायित्व वहन कर लें, तो हम 10 में से 1 बच्चे को एक अच्छा प्रशासक, एक अच्छा इंसान व एक अच्छा नागरिक बना पाने में सफलता प्राप्त कर सकेंगे और शेष बच्चे भले ही जीवन की सुख-सुविधाएं जुटाने में सक्षम न हों, अपराध जगत की अंधी गलियों में भटकने से बच जायेंगे। निरंतर अभ्यास व प्रयास से हम अपनी मंज़िल तक पहुंच सकते हैं। हमें इस मुहिम को आगे बढ़ाना होगा, जैसाकि हमारी सरकार इन मासूम बच्चों के उत्थान के लिये नवीन योजनाएं ला रही है, जिसके अच्छे परिणाम हमारे समक्ष हैं। हमें जाति विशेष को आरक्षण न देकर, अच्छी शिक्षा के निमित्त उन्हें सुख-सुविधाएं प्रदान करनी होंगी ताकि उनमें हीन भावना न पनपे। प्रतिस्पर्धात्मक युग में वे अपनी योग्यता के मापदंड पर वे खरे उतर सकें और सिर उठा कर कह सकें, ‘हम किसी से कम नही।’

इन्हीं शुभकामनाओं व अपेक्षाओं के साथ…

शुभाशी,

डा. मुक्ता

पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी,  #239,सेक्टर-45, गुरुग्राम-122003 ईमेल: drmukta51@gmail.com

मो•न• 8588801878

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *