रंगमंच स्मृतियाँ – “तीसवीं शताब्दी” – श्री असीम कुमार दुबे

(यह विडम्बना है कि  – हम सिनेमा की स्मृतियों को तो बरसों सँजो कर रखते हैं और रंगमंच के रंगकर्म को मंचन के कुछ दिन बाद ही भुला देते हैं। रंगकर्मी अपने प्रयास को आजीवन याद रखते हैं, कुछ दिन तक अखबार की कतरनों में सँजो कर रखते हैं और दर्शक शायद कुछ दिन बाद ही भूल जाते हैं। कुछ ऐसे ही क्षणों को जीवित रखने का एक प्रयास है “रंगमंच स्मृतियाँ “। यदि आपके पास भी ऐसी कुछ स्मृतियाँ हैं तो आप इस मंच पर साझा कर सकते हैं। – हेमन्त बावनकर)   

उपरोक्त चित्र भोपाल के भारत भवन में स्वर्गीय के जी त्रिवेदी नाट्य समारोह में बादल सरकार के नाटक “तीसवीं शताब्दी” के मंचन के समय का है। इस नाटक का ताना बाना हिरोशिमा की बरसी पर हिरोशिमा की विभीषिका के इर्द गिर्द बुना गया है।

इस नाटक में पात्र कल्पना करता है कि वह तीसवीं शताब्दी के लोगों से बात कर रहा है। उसे यह आभास होता है कि तीसवीं शताब्दी के लोग बीसवीं शताब्दी के लोगों पर यह आरोप लगाएंगे कि- हमने आखिर हिरोशिमा-नागासाकी जैसे कांड को होने ही क्यों दिया? वह पाता है कि इस शताब्दी का प्रत्येक व्यक्ति अपराधी है, उसका अपराध यह है कि उसने मानवता के प्रति ऐसी साज़िशों के प्रति आवाज क्यों नहीं उठाई?

इस समारोह में अनूप शर्मा को कला निर्देशन, जुल्फकार को संगीत के लिए सम्मानित किया गया। संगीता अत्रे को “शो मस्ट गो ऑन” के खिताब से नवाजा गया। यह संगीता अत्रे का रंगकर्म के प्रति समर्पण भाव को प्रदर्शित करता है जो अपनी माँ की दो दिन पूर्व मृत्यु के पश्चात भी नाटक में भावपूर्ण प्रस्तुति देने आईं। नाटक में असीम दुबे, नीति श्रीवास्तव, प्रवीण महुवाले, साजल श्रोत्रिय, संगीता अत्रे, दीपक तिवारी, ऐश्वर्या तिवारी, इन्दिरा आदि ने भूमिकाएँ निभाईं।

© असीम कुमार दुबे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *